कोरोना कंट्रोल को लेकर एक्टिव मोड में CM योगी, कोव‍िड सेंटर का ल‍िया जायजा, ऑक्‍सीजन प्‍लांट का क‍िया शुभारंभ

कोरोना कंट्रोल को लेकर एक्टिव मोड में CM योगी, कोव‍िड सेंटर का ल‍िया जायजा, ऑक्‍सीजन प्‍लांट का क‍िया शुभारंभ

योगी आदित्यनाथ ने मंडलीय चिकित्सालय में ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट का लोकार्पण किया और कोविड कमांड सेंटर का निरीक्षण किया। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरसंडी के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में चल रहे वैक्सीनेशन का निरीक्षण किया।

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर में संक्रमण पर काफी हद तक काबू पाया जा चुका है। पिछले 24 घंटों के आंकड़ों पर नजर डालें तो सूबे में कोरोना संक्रमण के 3957 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 10 हजार 441 लोग इस बीमारी से ठीक हुए हैं। वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंडलीय चिकित्सालय में ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट का लोकार्पण किया और कोविड कमांड सेंटर का निरीक्षण किया। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरसंडी के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में चल रहे वैक्सीनेशन का निरीक्षण किया और उसके बाद मंडलीय सभागार में विंध्याचल मंडली जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों के साथ कोरोना स्थिति पर समीक्षा बैठक की। 

इसे भी पढ़ें: आते ही UP में छाए एके शर्मा, वाराणसी मॉडल की PM ने की तारीफ, मिल सकता है अहम जिम्मा!

 ग्राउंड जीरो पर संभाली कमान

सीएम योगी कोरोना कंट्रोल को लेकर एक्टिव मोड में नजर आ रहे हैं। वो खुद भी अप्रैल महीने में सक्रमित हो गए थे, लेकिन इस दौरान होम आइसोलेशन में रहते हुए उन्होंने न केवल अधिकारियों संग समीक्षा बैठक की अपितु समाज के विभिन्न तबकों के साथ आभाषी संवाद कार्यक्रम भी जारी रखा। निगेटिव आने के बाद वो खुद मैदान में उतर गए और लगातार कोविड अस्पतालों का निरीक्षण करते नजर आए।  

वोट देने और नहीं देने वाले में नहीं किया कोई भेदभाव

योगी आदित्यनाथ ने राज्य के प्रत्येक नागरिक के कल्याण का संकल्प लेते हुए सोमवार को कहा कि उनकी सरकार ने विकास कार्यों का फायदा पहुंचाने के मामले में सत्तारूढ़ भाजपा को वोट देने वालों और वोट नहीं देने वालों के बीच कभी कोई भेदभाव नहीं किया। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।