वाराणसी: आसमान में उड़ते रंग बिरंगे हॉट एयर बैलून्स बने आकर्षण का केंद्र

वाराणसी: आसमान में उड़ते रंग बिरंगे हॉट एयर बैलून्स बने आकर्षण का केंद्र

बैलून फेस्टिवल का औपचारिक शुभारंभ उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग के मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने किया। देव दीपावली पर पर्यटकों को एक यादगार तोहफा देने के लिए पर्यटन विभाग और वाराणसी प्रशासन ने मिलकर इस फेस्टिवल का आयोजन किया है।

वाराणसी। सुबह से ही काशीवासियों के लिए दिन का नजारा कुछ अलग ही था। गंगा किनारे रेत पर आसमान में उड़ते हॉट एयर बैलून लोगों के आकर्षण का केंद्र बना रहा। आसमान में रंग बिरंगे हॉट एयर बैलून्स को उड़ता देख सबको बहुत आनंद आ रहा था। उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग द्वारा देव दीपावली के पर्व पर तीन दिवसीय हॉट एयर बैलून शो का आयोजन किया गया है। बता दें कि, वाराणसी में 17 नवम्बर से 19 नवम्बर तक  3 दिवसीय बैलून फेस्टिवल की शुरुआत हो चुकी है। इस तीन दिवसीय बैलून फेस्टिवल का औपचारिक शुभारंभ उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग के मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने किया।  देव दीपावली पर पर्यटकों को एक यादगार तोहफा देने के लिए पर्यटन विभाग और वाराणसी प्रशासन ने मिलकर इस फेस्टिवल का आयोजन किया है।

इसे भी पढ़ें: चुनाव में हिन्दू और हिंदुत्व का दिखावा करते हैं राहुल गांधी: भाजपा सांसद मनोज तिवारी

इस तीन दिवसीय बैलून फेस्टिवल में बनारस के गंगा उस पार डुमरी इलाके से 11 बैलून को उड़ाया गया है। वहीं, हॉट एयर बैलून में लोगों को भी बैठाया गया और इन बैलून के जरिए बनारस की अद्भुत छटा भी आसमान से देखने को मिली, जो बनारस की खूबसूरती को बयां कर रही थी। इसके साथ ही कमिश्नर दीपक अग्रवाल का कहना है कि, इन हॉट एयर बैलून को विश्व के अलग-अलग देशों से खास तौर पर बैलून फेस्टिवल के लिए मंगवाया गया है।  मलेशिया, कनाडा, यूके समेत अलग-अलग हिस्सों से लगभग 11 हॉट एयर बैलून बनारस आये है। उन्होंने आगे बताया कि एक बैलून में करीब 3 से 4 लोगों के बैठने की क्षमता है। फिलहाल इन बैलून्स में अभी कुछ विशेष लोगों को ही सैर करवाई जाएगी। 3 दिनों तक एंकर लॉक के जरिए भी बैलून में पर्यटकों को ले जाया जा सकता है, लेकिन बनारस की सैर के लिए विशिष्टजनों में पद्मश्री अवार्ड से सम्मानित लोग, कुछ प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी, कोरोना वारियर्स, समेत सामाजिक संस्थाओं से जुड़े लोगों को ज्यादा तवज्जो दी जाएगी।

इसे भी पढ़ें: केरल के गवर्नर आरिफ मोहम्मद खान का बड़ा बयान, जिन्ना के दादा और पिता नहीं थे मुसलमान

इसके आगे उन्होंने ये भी बताया कि कार्यक्रम में पर्यटक टिकट लेकर इसका लाभ ले सकते है, और गुब्बारें में बैठकर पूरे बनारस को आसमान से देख सकते है। कमिश्नर का कहना है कि, यह ट्रायल के तौर पर शुरू किया गया आयोजन है।  यदि  हम इसमे  सफल होते है , तो बनारस में बड़े बैलून पर्यटकों के लिए उड़ाए जाएंगे। इसके साथ ही आपको जानकर हैरानी होगी कि, इस बैलून उत्सव की लोकप्रियता इतनी ज्यादा बढ़ गयी है की, टिकट की बिक्री शुरू होने के करीब तीन घंटे के अंदर ही करीब  800 टिकट बिक गए। इससे पर्यटन विभाग को तीन घंटे में  करीब चार लाख रुपये की आमदनी हुई। पर्यटन विभाग ने हॉट एयर बैलून्स के टिकट  बेचने के लिए पांच केंद्र भी बनाए थे, लेकिन भीड़  इतनी ज्यादा हो गयी कि उसको  देखते हुए सिर्फ संस्कृति संकुल पर्यटन कार्यालय से टिकट की ब्रिकी हुई। बैलून से उड़ान भरने के लिए 500 रुपये टिकट दर निर्धारित की गई है।

इसे भी पढ़ें: भव्य तरीके से मनाया जाएगी देव दीपावली, जलाए जाएंगे 15 लाख दिए

तीन दिवसीय हॉट एयर बैलून शो में यह बैलून्स जमीन से लगभग  1000 फीट की ऊंचाई तक जाते हैं। यह बैलून्स एटीसी की देखरेख में उड़ान भरते हैं, और सुरक्षा के मद्देनजर रखते हुए रामनगर थाने की पुलिस के साथ ही बम निरोधक दस्ता, डॉग स्क्वॉड और अग्निशमन विभाग के कर्मियों को तैनात किया गया है। हॉट एयर बैलून में सवार होकर काशी का दीदार करने वाले एक सैलानी पुनीत ने उड़ान का अनुभव साझा करते हुए बताया कि, यह एक बेहतरीन अनुभव था। आसमान से काशी बहुत सुंदर नजर आ रही थी। पर्यटन विभाग के इस प्रयास से आने वाले समय में यहां टूरिस्टों का आना और बढ़ेगा। जब देव दिवाली के दिन रात में काशी के सभी 84 घाटों पर जलते दिए तारो की तरह टीम - टीमाऐंगे तो यह नजारा बहुत ही खूबसूरत और अदभुत होगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।