‘हर घर तिरंगा’ अभियान ऐसे सफल बनाएगी सरकार! बड़ी हस्तियां करेंगी सोशल मीडिया पर पोस्ट, सीएसआर निधि खर्च कर सकती हैं कंपनी

Har Ghar Tiranga
Google Free License
रेनू तिवारी । Jul 27, 2022 9:00AM
संसद में विपक्ष कई बड़े मुद्दों पर सरकार को घेर रहा हैं ऐसे में दूसरी तरफ सरकार ने आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर 13 से 15 अगस्त तक अपने 'हर घर तिरंगा' अभियान में अधिक से अधिक लोगों को शामिल करने का प्रयास तेज कर दिया हैं।

नयी दिल्ली। संसद में विपक्ष कई बड़े मुद्दों पर सरकार को घेर रहा हैं ऐसे में दूसरी तरफ सरकार ने आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर 13 से 15 अगस्त तक अपने 'हर घर तिरंगा' अभियान में अधिक से अधिक लोगों को शामिल करने का प्रयास तेज कर दिया हैं। सरकार के सूत्रों ने बताया कि 1 अगस्त से विभिन्न क्षेत्रों की लगभग 500-750 शीर्ष हस्तियां अभियान में अपनी भागीदारी के बारे में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर पोस्ट करना शुरू कर देंगी और लोगों से इसमें शामिल होने का आग्रह करेंगी।

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग वाली पुनरीक्षण याचिका खारिज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आजादी का अमृत महोत्सव के तत्वावधान में हर घर तिरंगा अभियान के लिए लोगों को तिरंगा घर लाने और भारत की आजादी के 75वें वर्ष को चिह्नित करने के लिए इसे फहराने के लिए प्रोत्साहित करने का आह्वान किया था।

केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय राज्य सरकारों और कई एजेंसियों के साथ अभियान का समन्वय कर रहा है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष में, "लक्षित 20 करोड़ परिवारों द्वारा झंडा फहराना न केवल तिरंगा से व्यक्तिगत संबंध का प्रतीक बन जाए। बल्कि राष्ट्र-निर्माण के प्रति प्रतिबद्धता का प्रतीक भी है।"

इसे भी पढ़ें: जीएसटी बेहद जटिल कर प्रणाली, भारत जैसे देश के लिए ठीक नहींः केजरीवाल

तिरंगे की अभूतपूर्व मांग को पूरा करने के लिए केंद्र ने 30 दिसंबर 2021 को भारत के ध्वज संहिता 2002 को बदल दिया, जो देश में राष्ट्रीय ध्वज के उपयोग, प्रदर्शन और फहराने को नियंत्रित करता है। संशोधन ने राष्ट्रीय ध्वज के लिए मशीन-निर्मित और पॉलिएस्टर झंडे का उपयोग करने की अनुमति दी। अधिसूचना में, सरकार ने ध्वज संहिता के भाग I के पैराग्राफ 1.2 को "राष्ट्रीय ध्वज हाथ से काता और हाथ से बुने या मशीन से बने, कपास / पॉलिएस्टर / ऊन / रेशम खादी बंटिंग से बना होगा" से बदल दिया था।

कंपनियां ‘हर घर तिरंगा’ अभियान से जुड़ी गतिविधियों के लिये अपनी कॉरपोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) निधि का इस्तेमाल कर सकती हैं। सरकार ने मंगलवार को यह जानकारी दी। यह अभियान सरकार द्वारा ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के हिस्से के रूप में आयोजित किया जा रहा है ताकि लोगों को राष्ट्रीय ध्वज घर लाने और भारत की आजादी के 75वें वर्ष को प्रदर्शित करने के लिए इसे फहराने के वास्ते प्रोत्साहित किया जा सके। कंपनी अधिनियम, 2013 के तहत, कुछ वर्ग की लाभदायक कंपनियों को कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) गतिविधियों के लिए अपने तीन साल के वार्षिक औसत शुद्ध लाभ का कम से कम दो प्रतिशत खर्च करना आवश्यक है।

कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय ने एक परिपत्र में कहा कि इस अभियान का उद्देश्य लोगों के दिलों में देशभक्ति की भावना जगाना और भारतीय राष्ट्रीय ध्वज के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना है। परिपत्र में कहा गया, “... इस अभियान से संबंधित गतिविधियों के लिए सीएसआर फंड का खर्च जैसे बड़े पैमाने पर उत्पादन और राष्ट्रीय ध्वज की आपूर्ति, पहुंच और प्रवर्धन प्रयास और अन्य संबंधित गतिविधियां योग्य सीएसआर गतिविधियां हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़