जीएसटी बेहद जटिल कर प्रणाली, भारत जैसे देश के लिए ठीक नहींः केजरीवाल

Arvind Kejriwal
प्रतिरूप फोटो
ANI Photo.
आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल ने यहां व्यापारियों और उद्योगपतियों की एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि जीएसटी प्रणाली बेहद जटिल है और इसे सरल बनाने की जरूरत है ताकि कारोबारी एवं उद्योगपति आसानी से कर-भुगतान कर सकें।

राजकोट| दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने माल एवं सेवा कर (जीएसटी) का विरोध करते हुए मंगलवार को कहा कि एकसमान कर की यह प्रणाली भारत जैसे देश के लिए सही नहीं है और वह व्यक्तिगत तौर पर इसके पक्ष में नहीं हैं।

आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल ने यहां व्यापारियों और उद्योगपतियों की एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि जीएसटी प्रणाली बेहद जटिल है और इसे सरल बनाने की जरूरत है ताकि कारोबारी एवं उद्योगपति आसानी से कर-भुगतान कर सकें।

उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले केंद्र ने दही, छाछ, गेहूं के आटे और चावल के पैकेट एवं ब्रांडेड उत्पादों पर जीएसटी लगा दिया है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि यह सरकार कहीं हवा पर भी जीएसटी न लगा दे।

केजरीवाल ने कहा, ‘‘जीएसटी इतना जटिल है कि मेरी पहचान के कई छोटे कारोबारियों को अपना कारोबार बंद करना पड़ा है क्योंकि वे जीएसटी की जरूरतें पूरी कर पाने में असमर्थ हैं।’’ इसके साथ ही उन्होंने कहा कि समान तरह के उत्पादों एवं सेवाओं पर समान कर लगाना भी ठीक नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे देश में गुजरात और अन्य राज्यों की अर्थव्यवस्था में अंतर है। एक ही चीज पर अलग-अलग राज्यों में कर अलग हो सकता है। यह भी संभव है कि किसी चीज पर यहां करारोपण की जरूरत न हो जबकि दूसरी जगह उसपर कर लगे। व्यक्तिगत तौर पर मैं इस कर प्रणाली के पक्ष में नहीं हूं।’’

  उन्होंने समूची कर प्रणाली को सरल बनाने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि ऐसा होने पर ही कारोबारी एवं उद्योगपति आसानी से कर भुगतान कर सकते हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़