• कश्मीर में फिर धारा 370 लागू करेगी कांग्रेस? भाजपा ने जारी किया दिग्विजय का ऑडियो

अंकित सिंह Jun 12, 2021 10:43

क्लब हाउस चैट में दिग्विजय सिंह ने कहा कि जब उन्होंने कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाया तो वहां लोकतंत्र नहीं था। वहां इंसानियत भी नहीं थी क्योंकि उन्होंने सभी को जेल में बंद कर दिया था। दिग्विजय ने इसके आगे कहा कि कश्मीरियत वहां के सेक्युलरिज्म का अहम हिस्सा है क्योंकि मुस्लिम बहुल राज्य का राजा हिंदुस्ता और दोनों साथ मिलकर काम करते थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 2019 में एनडीए की जबरदस्त वापसी हुई। इसके बाद भाजपा ने सबसे पहले अपने एजेंडे में वर्षों से शामिल धारा 370 के हटाने को लेकर तत्परता दिखाते हुए इसे खत्म किया। कश्मीर के कुछ दलों के अलावा कांग्रेस पार्टी ने भी घाटी से धारा 370 के हटाए जाने का जमकर विरोध किया। हालांकि देश में धारा 370 के खात्मे का जमकर स्वागत हुआ। इन सब के बीच एक सनसनीखेज ऑडियो सामने आया है। यह ऑडियो कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह की है। भाजपा की ओर से यह ऑडियो जारी किया गया है।

क्लब हाउस के ऑडियो में दिग्विजय सिंह आर्टिकल 370 को फिर से लागू करने की बात कर रहे हैं। दिग्विजय सिंह ने साफ तौर पर कहा है कि अगर कांग्रेस पार्टी सत्ता में आई तो वह 370 हटाने के फैसले पर विचार करेगी। खास बात यह है कि दिग्विजय के क्लब हाउस चैट में पाकिस्तानी रिपोर्टर शाहज़ेब भी मौजूद था। हालांकि, ऑडियो की अब तक पुष्टि नहीं हुई है। लेकिन बताया जा रहा है कि ऑडियो 12 मई का है। जब उन्होंने पाकिस्तानी रिपोर्टर के सामने धारा 370 को हटाने को लेकर बड़ी बात कही थी।

इसे भी पढ़ें: पीडीपी प्रवक्ता ने कहा- हमारा कोई सांसद या विधायक नहीं है इसलिए परिसीमन प्रक्रिया में शामिल नहीं हो सकते

क्लब हाउस चैट में दिग्विजय सिंह ने कहा कि जब उन्होंने कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाया तो वहां लोकतंत्र नहीं था। वहां इंसानियत भी नहीं थी क्योंकि उन्होंने सभी को जेल में बंद कर दिया था। दिग्विजय ने इसके आगे कहा कि कश्मीरियत वहां के सेक्युलरिज्म का अहम हिस्सा है क्योंकि मुस्लिम बहुल राज्य का राजा हिंदुस्ता और दोनों साथ मिलकर काम करते थे। दिग्विजय ने यह भी कहा कि यहां तक कि कश्मीर में कश्मीरी पंडितों को सरकारी नौकरी में आरक्षण दिया गया था। ऐसे में आर्टिकल 370 को हटाने का फैसला बेहद दुखद था और कांग्रेस जब सत्ता में आएगी तो 370 को हटाने के फैसले पर फिर से विचार करेगी।