राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा की रणनीति के लिए की बैठक, नागरिक समाज संगठनों और प्रमुख हस्तियों से हुई बातचीत

Rahul Gandhi
ANI Image
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने 7 सितंबर से शुरू होने वाली 'भारत जोड़ो यात्रा' के लिए दिल्ली के कॉन्स्टीट्यूशन क्लब ऑफ इंडिया में नागरिक समाज संगठनों और प्रमुख हस्तियों के साथ बातचीत की। कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा 7 सितंबर को तमिलनाडु के कन्याकुमारी से शुरू होगी।

नयी दिल्ली। ग्रैंड ओल्ड पार्टी 'कांग्रेस' ने 'भारत जोड़ो यात्रा' पर विचार-विमर्श करने के लिए 23 अगस्त को पार्टी नेताओं की बैठक बुलाई है। इस बैठक से पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने 7 सितंबर से शुरू होने वाली 'भारत जोड़ो यात्रा' के लिए दिल्ली के कॉन्स्टीट्यूशन क्लब ऑफ इंडिया में नागरिक समाज संगठनों और प्रमुख हस्तियों के साथ बातचीत की।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस को लगा एक और झटका, आजाद के बाद आनंद शर्मा ने प्रमुख समिति के अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा, कही यह बड़ी बात

कब शुरू होगी भारत जोड़ो यात्रा ?

कहा जा रहा है कि राहुल गांधी ने नागरिक समाज संगठनों और प्रमुख हस्तियों के साथ बैठक इस बारे में चर्चा के लिए बुलाई कि कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा में उनकी क्या भूमिका हो सकती है। कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा 7 सितंबर को तमिलनाडु के कन्याकुमारी से शुरू होगी, जो 3500 किमी की दूरी तय करते हुए कश्मीर में समाप्त होगी।

कांग्रेस ने इस यात्रा की योजना राजस्थान के उदयपुर में हुए चिंतन शिविर में बनाई थी और इसकी जानकारी खुद कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी ने दी थी। कांग्रेस इस यात्रा के जरिए लोकसभा चुनाव 2024 के लिए पार्टी संगठन को मजबूत करने का प्रयास भी शुरू कर देगी। इस यात्रा में पदयात्रा से लेकर रैलियां और जनसभाएं भी शामिल हैं, जिसमें सोनिया गांधी समेत कई वरिष्ठ नेता शामिल होंगे।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस का भविष्य अधर में, राहुल अध्यक्ष पद लेने को तैयार नहीं ! प्रियंका की तरफ जा रहा सभी का ध्यान मगर... 

इस साल की शुरुआत में पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा था। जिसके बाद राजस्थान में चिंतन शिविर हुआ, जहां पर हार के कारणों की समीक्षा की गई। ऐसे में कांग्रेस पार्टी एक बार फिर से राहुल गांधी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से सीधे टक्कर लेने की रणनीति बना रही है। कांग्रेस के तमाम कार्यकर्ता और वरिष्ठ नेता चाहते हैं कि राहुल गांधी पार्टी अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाल लें और लोकसभा चुनाव 2024 पर ध्यान केंद्रित किया जाए।

अन्य न्यूज़