हिंदुओं के बहुसंख्यक रहने तक संविधान और महिलाएं सुरक्षित: सी टी रवि

 Hindus remain in majority CT Ravi
भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) के राष्ट्रीय महासचिव सी टी रवि ने मंगलवार को कहा कि भारत का संविधान और महिलाएं तब तक सुरक्षित रहेंगी जब तक हिंदू देश में बहुसंख्यक हैं। रवि ने कहा, ‘‘जब तक इस देश में हिंदू बहुसंख्यक हैं, तब तक डॉ बी आर आंबेडकर द्वारा लिखा गया संविधान रहेगा।

कलबुर्गी (कर्नाटक)। भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) के राष्ट्रीय महासचिव सी टी रवि ने मंगलवार को कहा कि भारत का संविधान और महिलाएं तब तक सुरक्षित रहेंगी जब तक हिंदू देश में बहुसंख्यक हैं। रवि ने कहा, ‘‘जब तक इस देश में हिंदू बहुसंख्यक हैं, तब तक डॉ बी आर आंबेडकर द्वारा लिखा गया संविधान रहेगा। जब तक हिंदू बहुसंख्यक रहेंगे, तब तक समान अवसर होंगे, एक बार हिंदू अल्पसंख्यक हो गए तो गंधार(अफगानिस्तान) के साथ जो हुआ, वह यहां भी होगा।’’

इसे भी पढ़ें: प्रदेश में 1 से 7 सितम्बर तक मातृ वंदना सप्ताह के दौरान प्रतिदिन विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा

उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा कि जो लोग आंबेडकर के संविधान की रक्षा करना चाहते हैं, उन्हें ‘‘इस सच्चाई’’ को नहीं भूलना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘धर्मनिरपेक्षता और धार्मिक सहिष्णुता हमारा (हिंदू) मूल विश्वास है। जब तक सहिष्णुता वाले लोग बहुसंख्यक रहेंगे, तब तक धर्मनिरपेक्षता रहेगी, महिलाओं की सुरक्षा रहेगी।

इसे भी पढ़ें: सौ प्रतिशत वैक्सीनशन के लिए जयराम ठाकुर और उनकी टीम को शुभकामनाएं : कश्यप

सहिष्णुता वाले लोगों के अल्पसंख्यक बनने पर अफगानिस्तान जैसी स्थिति उत्पन्न हो जाएगी ... जब वे (गैर-हिंदू) बहुसंख्यक होते हैं तो वे शरीयत की बात करते हैं, आंबेडकर के संविधान के बारे में नहीं।’’ इसके अलावा, चिकमगलूर के विधायक ने कांग्रेस से ‘‘निष्पक्ष रूप से राजनीति करने और तुष्टीकरण की राजनीति को रोकने’’ का आग्रह किया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़