MP में कोरोना का महाविस्फोट, बीते 24 घंटे में मिले 5 हजार से ज्यादा मरीज

MP में कोरोना का महाविस्फोट, बीते 24 घंटे में मिले 5 हजार से ज्यादा मरीज

इंदौर, भोपाल और ग्वालियर कोरोना का हॉट स्पॉट बना हुआ है। इंदौर में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। इंदौर में शुक्रवार को 1343 कोरोना मरीज मिले। जिले में करीब 8 महीने बाद 1300 से ज्यादा संक्रमित सामने आए हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर भयावक होती नजर आ रही है। प्रदेश के 50 जिलों में कोरोना संक्रमण फैल चुका है। प्रदेश में एक्टिव केस की संख्या 25 हजार के पार चला गया है। पिछले 24 घंटे में 5315 कोरोना मरीज मिले।  

वहीं प्रदेश में शुक्रवार को मिले कुल 5315 कोरोना मरीजों में से 3521 लोग कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज लगवा चुके हैं। और पिछले 24 घंटे में 1186 मरीज स्वस्थ हुए।

इसे भी पढ़ें:देश में कोविड के 2 लाख 68 हजार से ज्यादा नए केस, Omicron के मामले 6000 पार 

दरअसल इंदौर, भोपाल और ग्वालियर कोरोना का हॉट स्पॉट बना हुआ है। इंदौर में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। इंदौर में शुक्रवार को 1343 कोरोना मरीज मिले। जिले में करीब 8 महीने बाद 1300 से ज्यादा संक्रमित सामने आए हैं। 

भोपाल में पिछले 24 घंटे में 986 कोरोना मरीज मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग ने शुक्रवार को 5 हजार 833 लोगों की कोरोना जांच की, जिसमें 986 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। नए मरीजों को मिलकार भोपाल में एक्टिव मरीजों की संख्या 4761 पहुंच गई है। 

इसे भी पढ़ें:गर्व से 74वां सेना दिवस मना रहा है भारत, देशभर से जवानों को मिल रहीं शुभकामनाएँ 

ग्वालियर में 24 घंटे में 593 नए कोरोना संक्रमित सामने आए हैं। 3891 संदिग्ध लोगों की जांच में 593 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। शुक्रवार को 125 मरीज डिस्चार्ज हुए। जिले में एक्टिव केसों की संख्या बढ़कर 3090 हो गई है।

आपको बता दें कि भोपाल के हमीदिया अस्पताल में कोविड पॉजिटिव मां ने बेटी को जन्म दिया। हालांकि बच्ची कोविड निगेटिव है। महिला को लेबर पेन होने पर परिजन इंदिरा गांधी गैस राहत अस्पताल लेकर पहुंचे। सर्दी-खांसी होने के कारण यहां उनकी कोरोना जांच कराई। जिसके बाद रिपोर्ट पॉजिटिव आने के कारण परिजन महिला को हमीदिया ले आए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।