मोदी सरकार की सामरिक गलतियों की भारी कीमत देश को चुकानी होगी: राहुल गांधी

मोदी सरकार की सामरिक गलतियों की भारी कीमत देश को चुकानी होगी: राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को दावा किया कि केंद्र सरकार की सामरिक गलतियों की देश को भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। उन्होंने चीन और पाकिस्तान के संदर्भ में अपने एक बयान तथा सरकार की कुछ टिप्पणियों का हवाला देते हुए ट्वीट किया।

नयी दिल्ली। चीन की लगातार बढ़ती भारतीय बॉर्डर पर दखल अंदाजी को लेकर राहुल गांधी ने अपनी चिंता व्यक्त की है। राहुल गांधी ने सरकार की सामरिक नीतियों को लेकर निशाना साधा है और आने वाले समय में इस तरह की नीति के कारण देश को होने वाले खतरों को लेकर अगाह किया है। राहुल गांधी का यह बयान तब आया है जब रूस ने यूक्रेन पर हमला कर दिया है और विश्व पर तीसरे विश्व युद्ध का खतरा मंडराने लगा है। राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर पाकिस्तान और चीन के साथ तनाव पूर्ण रिश्तों को लेकर अपनी चिंता को व्यक्त किया है। 

इसे भी पढ़ें: जब पुतिन के सामने बातचीत करते वक्त सहम गए रूसी खुफिया विभाग के चीफ, जानें क्या है पूरा मामला 

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को दावा किया कि केंद्र सरकार की सामरिक गलतियों की देश को भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। उन्होंने चीन और पाकिस्तान के संदर्भ में अपने एक बयान तथा सरकार की कुछ टिप्पणियों का हवाला देते हुए ट्वीट किया, ‘‘इस सरकार की सामरिक गलतियों की भारी कीमत देश को चुकानी होगी।’’ राहुल गांधी पिछले कुछ महीनों के दौरान सीमा पर चीन के साथ तनाव को लेकर सरकार पर लगातार हमले करते रहे हैं। संसद के इस साल के बजट सत्र के पहले चरण के दौरान उन्होंने लोकसभा में आरोप लगाया था कि नरेंद्र मोदी सरकार की गलत नीतियों के कारण चीन और पाकिस्तान एक साथ आ गए हैं।

आपको बता दे कि देश में 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव चल रहे हैं सभी पार्टियां एक दूसरे पर हमलावर हैं। ऐसे में जब विश्व स्तर पर रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध हो रहा है तो सभी की निगाहें भारत के स्टैंड पर बनीं हुई है कि आखिर भारत किस पक्ष में हैं। सरकार युद्ध के पक्ष में नहीं है वह युद्ध को खत्म करने की ही अपील कर रही हैं ऐसे में राहुल गांधी का यह बयान आया हैं।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।