उत्तर प्रदेश की क्षेत्र पंचायत प्रमुख बनीं दलित महिला मजदूर , सीएम बोले- यही है लोकतंत्र की सुंदरता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 12, 2021   18:10
उत्तर प्रदेश की क्षेत्र पंचायत प्रमुख बनीं दलित महिला मजदूर , सीएम बोले- यही है लोकतंत्र की सुंदरता

बहराइच जिले के पयागपुर विकासखंड से निर्विरोध क्षेत्र पंचायत प्रमुख चुनी गईं एक दलित मजदूर को सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बधाई दी। उधर, भदोही जिले में भी मनरेगा के तहत काम करने वाली महिला मजदूर को सुरयावा ब्लॉक प्रमुख के पद पर निर्विरोध चुना गया है।

लखनऊ/बहराइच/भदोही (उत्तर प्रदेश)। बहराइच जिले के पयागपुर विकासखंड से निर्विरोध क्षेत्र पंचायत प्रमुख चुनी गईं एक दलित मजदूर को सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बधाई दी। उधर, भदोही जिले में भी मनरेगा के तहत काम करने वाली महिला मजदूर को सुरयावा ब्लॉक प्रमुख के पद पर निर्विरोध चुना गया है। मुख्यमंत्री ने महिला मजदूर के क्षेत्र पंचायत प्रमुख बनने की खबर को टैग करते हुए ट्वीट किया, नये उत्तर प्रदेश में मातृशक्ति का सशक्तिकरण। उन्होंने आगे लिखा, एक मनरेगा मजदूर की पत्नी क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष निर्वाचित हो गई, यही है लोकतंत्र की सुंदरता। जीविका के लिए खेती व मजदूरी पर निर्भर गीता जी पहली बार क्षेत्र पंचायत सदस्‍य बनी थीं।

इसे भी पढ़ें: आपातकाल के कारण तोक्यो में लोग नहीं मना पाएंगे ओलंपिक से जुड़ी सेरेमनी

यह है नये भारत का नया उत्तर प्रदेश। मुख्यमंत्री ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा, उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार, आदरणीय प्रधानमंत्री जी के मंत्र सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास को निरंतर चरितार्थ कर रही है। गीता जी का क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष बनना प्रदेश की भाजपा सरकार की वंचित वर्ग के सशक्तिकरण के प्रति प्रतिबद्धता का परिणाम है। वहीं, वहीं, बहराइच से मिली रिपोर्ट के अनुसार, बेलवा पदुम निवासी गीता देवी शनिवार को निर्विरोध क्षेत्र पंचायत प्रमुख चुनी गईं। उनके पति पवन कुमार मनरेगा जॉब कार्ड धारक हैं और गांव में मजदूर के रूप में काम करते हैं। गांव में उनके पास चार बीघा कृषि भूमि और एक कमरे वाला घर है। गीता 12वीं पास हैं और रोजी-रोटी कमाने के बाद बचे समय में सामाजिक कार्य करती हैं और कोरोना महामारी के दौरान जनसेवा के लिए किए गए कार्यों के लिए प्रसिद्ध हैं। गीता को क्षेत्र पंचायत सदस्य के रूप में निर्विरोध चुना गया और बाद में निर्विरोध क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष चुना गया।

इसे भी पढ़ें: आतंकवाद को लेकर गृह मंत्री का बड़ा बयान, कहा- भारत में नार्को आतंकियों को आने नहीं देंगे

प्राथमिकताओं के बारे में पूछे जाने पर गीता ने कहा, मैं अपने क्षेत्र के विकास के लिए हर संभव प्रयास करूंगी। मैं सभी गांवों में सड़क बनवाने की कोशिश करूंगी। जिस गांव से गीता देवी बीडीसी सदस्य चुनी गईं उस गांव के प्राथमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापिका प्रीति समय मिश्र ने सोमवार को पीटीआई- को बताया कि कोरोना काल में जब गांव में कैंप लगाकर सेवा कार्य किया जा रहा था तब गीता देवी ने कोरोना योद्धा के रूप में अपनी जान की परवाह किये बिना गांव और आसपास के लोगों की मदद की। इस बीच, भदोही से प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक जिले के सुरयावा ब्लॉक प्रमुख पद पर एक महिला श्रमिक अनीता गौतम निर्विरोध चुन ली गईं।

अनीता और उनके पति राजेश गौतम जिले के भदोही शहर के भाजपा विधायक रविंद्र नाथ त्रिपाठी के चौगुना गांव स्थित आवास में घरेलू कामकाज करते हैं। विधायक रविंद्र नाथ त्रिपाठी ने बताया कि वर्तमान में अनीता और उनके पति मनरेगा के तहत एक तालाब खुदाई में मज़दूरी करते हैं। पार्टी ने अनीता को सुरयावा ब्लॉक प्रमुख पद के लिये अपना उम्मीदवार बनाया था। अनीता गौतम का पर्चा दाखिल करने खुद विधायक भी साथ गए थे। इस ब्लॉक पर किसी और ने पर्चा नहीं भरा था। जिला निर्वाचन अधिकारी आर्यका अखौरी ने कलक्ट्रेट सभागार में अनीता गौतम को सुरयावा ब्लॉक प्रमुख पद पर निर्वाचन का प्रमाण पत्र सौंपा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।