पृथक-वास पूरा कर चुके 4,000 तबलीगी जमातियों को दिल्ली सरकार ने दिया छोड़ने का आदेश

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 6, 2020   19:21
पृथक-वास पूरा कर चुके 4,000 तबलीगी जमातियों को दिल्ली सरकार ने दिया छोड़ने का आदेश

आदेश में कहा कि शेष सभी को उनके गृह राज्य भेज दिया जाए इसके लिए दिल्ली सरकार के गृह विभाग को राज्यों के रेजीडेंट कमिश्नर से संपर्क करने को कहा गया है।

नयी दिल्ली। दिल्ली सरकार ने बुधवार को तबलीगी जमात के उन 4,000 सदस्यों को छोड़ने के आदेश दिए जिन्होंने राष्ट्रीय राजधानी के केन्द्रों में पृथक-वास की अवधि पूरी कर ली है। दिल्ली के गृह मंत्री सत्येन्द्र जैन ने यह आदेश जारी किए। आदेश में यह भी कहा गया है कि निजामुद्दीन मरकज की घटना में इनमें से तबलीगी जमात के जिन सदस्यों के नाम दर्ज किये गये हैं और जांच के लिये उनकी जरूरत है, उन्हें दिल्ली पुलिस की हिरासत में भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि शेष सभी को उनके गृह राज्य भेज दिया जाए इसके लिए दिल्ली सरकार के गृह विभाग को राज्यों के रेजीडेंट कमिश्नर से संपर्क करने को कहा गया है।  

इसे भी पढ़ें: योगी आदित्यनाथ का आरोप, कोरोना वायरस फैलाने में तब्लीगी जमात का हाथ 

सरकार के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी में पृथक केन्द्रों में तबलीगी जमात के कम से कम 4,000 सदस्य हैं। इनमें से 900 लोग दिल्ली के हैं इसके अलावा अधिकतर लोग तमिलनाडु और तेलंगाना से हैं। उन्होंने कहा कि उनकी वापसी के लिए परिवहन की व्यवस्था करने के लिए दिल्ली सरकार अन्य राज्यों की सरकारों के साथ संपर्क में है। गौरतलब है कि तबलीगी जमात के हजारों सदस्य निजामुद्दीन मरकज में एक धार्मिक कार्यक्रम में इकट्ठा हुए थे। जानकारी मिलने के बाद इन सदस्यों को वहां से निकाला गया था। जांच में बड़ी संख्या में संक्रमण के मामले मिलने से यह स्थान कोरोना वायरस के हॉटस्पॉट के रूप में उभरा था।

इसे भी देखें : Tablighi Jamaat ने पूरे India में Coronavirus फैला कर देशद्रोह किया 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।