गणतंत्र दिवस 2022: छावनी में तब्दील हुई दिल्ली, जगह-जगह वाहनों की जांच कर रहे पुलिसकर्मी

गणतंत्र दिवस 2022: छावनी में तब्दील हुई दिल्ली, जगह-जगह वाहनों की जांच कर रहे पुलिसकर्मी
प्रतिरूप फोटो

गणतंत्र दिवस समारोह को देखते हुए जमीन से लेकर आसमान तक की सुरक्षा को मजबूत किया गया है। राजपथ पर अकेले 500 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। जिसके माध्यम से 24 घंटे निगरानी की जा रही है। इसके अलावा राजपथ से जुड़े रास्तों पर भी सीसीटीवी का इंतेजाम किया गया है।

नयी दिल्ली। खुफिया एजेंसियों द्वारा आतंकवादी हमलों का इनपुट जारी किए जाने के बाद सुरक्षाबलों ने राष्ट्रीय राजधानी को छावनी में तब्दील कर दिया है। आपको बता दें कि हिन्दुस्तान अपना 73वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं। ऐसे में दिल्ली पुलिस, एनएसजी, पैरा मिलिट्री फोर्सेस ने राष्ट्रीय राजधानी में सुरक्षा का जिम्मा संभाला है। गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करते हुए दिल्ली पुलिस के जवान जगह-जगह वाहनों की जांच कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: CDS बिपिन रावत समेत 4 हस्तियों को पद्म विभूषण, गुलाम नबी आजाद को पद्म भूषण, देखें पुरस्कारों की पूरी लिस्ट 

गणतंत्र दिवस समारोह को देखते हुए जमीन से लेकर आसमान तक की सुरक्षा को मजबूत किया गया है। राजपथ पर अकेले 500 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। जिसके माध्यम से 24 घंटे निगरानी की जा रही है। इसके अलावा राजपथ से जुड़े रास्तों पर भी सीसीटीवी का इंतेजाम किया गया है।

गणतंत्र दिवस के मौके पर आतंकवादी हमले की फिराक में रहते हैं। जिसको लेकर समय-समय पर खुफिया एजेंसियां अलर्ट जारी करती हैं। ऐसे में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। इसके अलावा दिल्ली की लाइफ लाइन मानी जाने वाली मेट्रो में सुरक्षा व्यवस्था को पहले ही मजबूत करते हुए स्टेशनों पर कमांडो की तैनाती की जा चुकी थी। इसके अलावा 25 जनवरी को सुबह छह बजे से 26 जनवरी को अपराह्न दो बजे तक मेट्रो के सभी पार्किंग स्थल बंद रहेंगे।

27,000 से ज्यादा पुलिसकर्मी तैनात

दिल्ली पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने बताया था कि राष्ट्रीय राजधानी में सुरक्षा के लिए 27 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है तथा आतंक रोधी व्यवस्था को और मजबूत किया गया है। उन्होंने बताया था कि पुलिस उपायुक्त, सहायक पुलिस आयुक्त और निरीक्षक, उप निरीक्षक रैंक के अधिकारियों को सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इसके अलावा सहायता के लिए केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) की 65 कंपनियों को तैनात किया गया है। 

इसे भी पढ़ें: गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति कोविंद ने देश को किया संबोधित, महात्मा गांधी से लेकर कोरोना महामारी तक की बात

हाई-अलर्ट पर सुरक्षाबल

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), जम्मू के महानिरीक्षक डी. के. बूरा ने सोमवार को बताया था कि गणतंत्र दिवस पर राष्ट्र-विरोधी तत्वों द्वारा समस्या उत्पन्न करने के खतरे के मद्देनजर भारत-पाकिस्तान सीमा पर सुरक्षाबल हाई-अलर्ट पर हैं। उन्होंने बताया था कि बीएसएफ ने पहले ही सीमा पर दो सप्ताह के लिए सतर्कता बढ़ा दी है। उन्होंने बताया था कि बीएसएफ आतंकवादियों के नापाक मंसूबों को विफल करने के लिए सेना, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) और पुलिस के साथ संयुक्त गश्त भी कर रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।