प्रज्ञा के खिलाफ बयान पर राहुल के विरुद्ध विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाने की मांग

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2019   18:16
प्रज्ञा के खिलाफ बयान पर राहुल के विरुद्ध विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाने की मांग

इसी दौरान भाजपा के निशिकांत दूबे ने लोकसभा अध्यक्ष से अनुरोध किया कि एक मौजूदा सांसद को कथित तौर पर आतंकवादी कहने के लिए राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव आना चाहिए।

नयी दिल्ली। लोकसभा में भाजपा के एक सदस्य ने शुक्रवार को मांग की कि प्रज्ञा ठाकुर को आतंकवादी करार देने वाले बयान के लिए कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाया जाना चाहिए। बुधवार को सदन में एसपीजी विधेयक पर चर्चा के दौरान भोपाल से भाजपा सदस्य प्रज्ञा सिंह ठाकुर की विवादित टिप्पणी को लेकर कांग्रेस के सदस्य प्रज्ञा से बिना शर्त माफी की मांग कर रहे थे।

इसी दौरान भाजपा के निशिकांत दूबे ने लोकसभा अध्यक्ष से अनुरोध किया कि एक मौजूदा सांसद को कथित तौर पर आतंकवादी कहने के लिए राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव आना चाहिए। उन्होंने स्पीकर से इस संबंध में कार्रवाई की मांग की। दूबे ने शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के 20 जनवरी 2013 के अंक की प्रति का हवाला देते हुए कहा कि इसमें नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहा गया था। उन्होंने कहा कि आज शिवसेना के साथ कांग्रेस ने महाराष्ट्र में गठबंधन किया है जो कांग्रेस के दोहरे मानदंड दर्शाता है।

इसे भी पढ़ें: सुप्रिया सुले पवार की महान विरासत की ‘योग्य उत्तराधिकारी’: मिलिंद देवड़ा

गौरतलब है कि प्रज्ञा ने बुधवार को लोकसभा में एसपीजी संशोधन विधेयक पर चर्चा के दौरान उस वक्त कथित विवादित टिप्पणी की थी जब द्रमुक सदस्य ए राजा बोल रहे थे। प्रज्ञा की टिप्पणी को सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं किया गया था। कांग्रेस समेत विपक्षी सदस्यों ने बृहस्पतिवार को भी इस विषय को सदन में उठाया। गौरतलब है कि प्रज्ञा के लोकसभा में दिए गए विवादित बयान को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरूवार को ट्वीट किया था, ‘‘आतंकवादी प्रज्ञा ने आतंकवादी गोडसे को देशभक्त बताया। यह भारत के संसद के इतिहास का एक दुखद दिन है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...