सुप्रिया सुले पवार की महान विरासत की ‘योग्य उत्तराधिकारी’: मिलिंद देवड़ा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2019   16:31
सुप्रिया सुले पवार की महान विरासत की ‘योग्य उत्तराधिकारी’: मिलिंद देवड़ा

पिछले कुछ समय से मीडिया में आई खबरों में दावा किया गया कि सुले और उनके चचेरे भाई एवं महाराष्ट्र के पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार के बीच 79 वर्षीय राकांपा प्रमुख (शरद पवार) का उत्तराधिकारी बनने के लिये प्रतिस्पर्धा चल रही है।

मुंबई। कांग्रेस नेता मिलिंद देवरा ने शुक्रवार को कहा कि बारामती से लोकसभा सदस्य सुप्रिया सुले अपने पिता एवं राकांपा प्रमुख शरद पवार की महान विरासत की ‘योग्य उत्तराधिकारी’ हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वह सुले के उस विचार से सहमत हैं कि सामाजिक कार्य और नीति परिवर्तन राजनीतिक सशक्तिकरण के रास्ते पर ले जाते हैं। 

देवरा ने ट्वीट किया,‘‘सुप्रिया सुले अपने पिता की महान विरासत की योग्य उत्तराधिकारी हैं। वह (सुप्रिया) प्रभावी हैं क्योंकि उनका मानना है कि सामाजिक कार्य और नीति परिवर्तन राजनीतिक सशक्तिकरण के रास्ते पर ले जाते हैं। मैं इस विचार से सहमत हूं और इस पर उनके काम करने के लिए उनकी सराहना करता हूं।’’ दक्षिण मुंबई क्षेत्र से पूर्व सांसद ने एक ट्वीट का जवाब देते हुए यह टिप्पणी की।

इसे भी पढ़ें: तेजस्वी का तंज, पूछा- क्या देशहित में नहीं खा सकते 100 रुपये किलो प्याज़?

सुले पुणे जिला स्थित बारामती लोकसभा सीट से तीसरी बार सांसद निर्वाचित हुई हैं। यह सीट राकांपा प्रमुख पवार का गढ़ माना जाता है। गौरतलब है कि पिछले कुछ समय से मीडिया में आई खबरों में दावा किया गया कि सुले और उनके चचेरे भाई एवं महाराष्ट्र के पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार के बीच 79 वर्षीय राकांपा प्रमुख (शरद पवार) का उत्तराधिकारी बनने के लिये प्रतिस्पर्धा चल रही है। शरद पवार महाराष्ट्र के चार बार मुख्यमंत्री रहे हैं। वह केंद्र में मंत्री भी रह चुके हैं। उन्होंने 1999 में कांग्रेस से अलग होकर ‘राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी’बनाई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...