राममंदिर की सुरक्षा पर डीजीपी ने किया मंथन, ट्रस्ट से कहा- श्रद्धालुओं की संख्या को लेकर बढ़ाई जा सकती है दर्शन अवधि

राममंदिर की सुरक्षा पर डीजीपी ने किया मंथन, ट्रस्ट से कहा- श्रद्धालुओं की संख्या को लेकर बढ़ाई जा सकती है दर्शन अवधि

राम जन्मभूमि परिसर के स्थाई सुरक्षा समिति की बैठक में आईबी निदेशक व प्रदेश के डीजीपी हुए शामिल, राम मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चम्पतराय भी रहे मौजूद।

अयोध्या. अयोध्या में भगवान श्री राम के भव्य मंदिर निर्माण और परिसर की सुरक्षा को लेकर नया ग्राफ तैयार किया जाएगा। आज राम जन्मभूमि परिसर के स्थाई सुरक्षा समिति की बैठक बुलाई गई और इस बार बैठक में देश की सुरक्षा में निगरानी करने वाले आईबी निदेशक व प्रदेश के डीजीपी मुकुल गोयल भी शामिल हुए। और कई अहम फैसला भी हुआ। साथ ही राम मंदिर ट्रस्ट के साथ श्रद्धालुओं के दर्शन की अवधि को बढ़ाये जाने पर मंथन किया है।

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड त्रासदी में मारे गए लोगों का तर्पण करने साईकिल लेकर निकला युवक पहुंचा अयोध्या 

अयोध्या में श्री रामलला का दर्शन दो पाली में हो रहा है। प्रथम पाली सुबह 7 बजे से 11 बजे तक व दूसरी पाली में दोपहर 2 बजे से 6 बजे तक दर्शन होता है। इस दौरान 10 हजार से ज्यादा श्रद्धालु रामलला का दर्शन करते है। लेकिन अभी श्रद्धालुओं की संख्या लगातार बढ़ रही है।ऐसे में डीजीपी मुकुल गोयल की अध्यक्षता में ट्रस्ट के साथ हुई बैठक में दर्शन लाइन की संख्या बढ़ाए जाने को लेकर भी चर्चा की गई।जिससे श्रद्धालुओं को सुगमता के साथ दर्शन प्राप्त हो सके। 

इसे भी पढ़ें: आजादी के 75वां वर्ष होने पर 465 स्थलों पर होगी भारत माता की आरती, 75000 लोग गाएंगे वंदे मातरम 

बैठक के बाद एडीजी जोन एसएन साबत ने बताया की स्थाई समिति की बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं इस बैठक में राम जन्मभूमि ट्रस्ट के पदाधिकारी भी शामिल हुए हैं मुख्य रूप से रामलला के दर्शन अवधि बढ़ाए जाने को लेकर दर्शन मार्ग की संख्या बढ़ाए जाने को लेकर और रामलला के साथ-साथ राम मंदिर निर्माण की सुरक्षा लेकर चर्चा हुई है यही नहीं अयोध्या में वीवीआईपी मूवमेंट पर बने हैं ऐसे में सुरक्षा व प्रोटोकॉल दोनों को सामान्य बनाने के लिए एक नए एडिशनल एसपी का पद सृजित किया जा सकता है इस पर भी चर्चा हुई है। वही ट्रस्ट के पदाधिकारियों से अभी यहीं सजेस्ट किया है की समय सीमा बढ़ा दे दर्शनार्थियों की आमद पहले काफी बढ़ गयी है। हम लोग यही उम्मीद कर रहे हैं कि उसके बारे में थोड़ा विचार करेंगे थोड़ा समय सीमा बढ़ा देने से अधिक संख्या में लोग दर्शन कर पाएंगे। श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ने पर मार्ग और गैंग्वे बनाने की योजना बनाई जाएगी।अभी इमीडीएटली तो नहीं है अभी हमारी टीम टूरिस्ट की आवश्यकता को उपलब्ध कराने लिए बनी हैं।श्री राम जन्मभूमि हनुमानगढ़ी कनक भवन नागेश्वरनाथ तथा अन्य जितने रिलीजियस प्लेस है उसमें भी भीड़ दिन प्रतिदिन बढ़ रहा है उसके हिसाब से हम लोग किस प्रकार सुरक्षा परिधि को बढ़ाएंगे उस प्रयास कर रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...