दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने कसा कम्प्यूटर बाबा पर तंज

दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने कसा कम्प्यूटर बाबा पर तंज

बाबा के वकील विभोर खंडेलवाल के बताया कि रिहाई के बाद बाबा सीधे हरिद्वार चले गए। वकील ने बताया कि बाबा ने कहा था कि जेल में वे ठीक से पूजा-पाठ नहीं कर पाए, इसलिए 15 दिन हरिद्वार में रहकर पूजन करेंगे।

भोपाल। मध्य प्रदेश के हाई प्रोफाइल राजनैतिक कम्प्यूटर बाबा को लेकर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने तंज कसा है। कम्प्यूटर बाबा को पिछले सप्ताह  11 दिन जेल में रहने के बाद  गुरुवार शाम जमानत पर रिहा कर दिया गया था। जेल से निकलते ही बाबा हरिद्वार रवाना हो गए। उनके इस तरह हरिद्वार जाने पर  कांग्रेस नेता लक्ष्मण सिंह ने तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि अगर बाबा पहले ही हरिद्वार चले जाते तो राजनीति का बेड़ा पार नहीं होता। उन्होंने ट्वविटर पर लिखा कि - 'जेल से छूटते ही बाबा चले हरिद्वार, पहले चले जाते तो राजनीति का नहीं होता बेड़ा पार, अभी भी कुछ बचे हैं, जो आगे दे सकते हैं नुकसान, कार्यकर्ताओं की भावना है, इस बात का लिया जाए संज्ञान...।'

 

इसे भी पढ़ें: नमकीन फैक्ट्री पर छापे के दौरान भागे मालिक और कर्मचारी, मिले कई ब्रांड के पैकेट

कम्प्यूटर बाबा को सभी मामलों में कोर्ट से जमानत मिलने के बाद गुरुवार देर शाम उन्हें रिहा कर दिया गया था। वही कंप्यूटर बाबा ने मीडिया के किसी सवाल का जबाब नहीं दिया बस इतना कहा कि, मुझे कुछ नहीं कहना साथ ही वकीलों और सबका धन्यवाद, भगवान ने सत्य की जीत की है। इसके बाद कुछ दूर खड़ी कार में सवार हाेकर बाबा निकल गए। बाबा के वकील विभोर खंडेलवाल के बताया कि रिहाई के बाद बाबा सीधे हरिद्वार चले गए। वकील ने बताया कि बाबा ने कहा था कि जेल में वे ठीक से पूजा-पाठ नहीं कर पाए, इसलिए 15 दिन हरिद्वार में रहकर पूजन करेंगे। फिर वे कुछ यात्राएं करेंगे। खंडेलवाल की मानें, तो बाबा अन्य देवस्थान पर भी जाएंगे। करीब 1 महीने तो वो भक्ति में ही लीन रहेंगे। 

 

इसे भी पढ़ें: निवाड़ी में मौनी बाबा आश्रम पर इस बार एकादशी पर नहीं लगेगा मेला

कम्प्यूटर  बाबा के वकील के अनुसार बाबा के खिलाफ चार मामले दर्ज किए गए थे। 8 नवंबर को धारा 151 के तहत बाबा को जेल भेजा गया था। इसके बाद 12 नवंबर को गांधी नगर में एक मामला दर्ज हुआ। इसके बाद एरोड्रम थाने में एक और केस दर्ज हुआ। इसके बाद 17 नवंबर को बाबा को एरोड्रम मामले में भी जमानत मिल गई। वहीं, उसी दिन उनके खिलाफ एक और केस गांधी नगर थाने में दर्ज हुआ था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...