हर गांव में बांटे शराब पर विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट: CM नीतीश

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2018   08:44
हर गांव में बांटे शराब पर विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट: CM नीतीश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को सभी अधिकारियों से कहा कि वह शराब पीने से होने वाले नुकसान के संबंध में विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट का सारांश सभी गांवों में बाटें।

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को सभी अधिकारियों से कहा कि वह शराब पीने से होने वाले नुकसान के संबंध में विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट का सारांश सभी गांवों में बाटें। शराब पीने से स्वास्थ्य और समाज पर पड़ने वाले गलत प्रभावों के संबंध में डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के बारे में बातचीत करते हुए कुमार ने कहा कि डब्ल्यूएचओ के इस अध्ययन के मुताबिक दुनिया में होने वाली मौतों में से 5.3 प्रतिशत के लिए सिर्फ और सिर्फ शराब जिम्मेदार है।

इसे भी पढ़ें: 30 नवंबर के बाद NDA से अलग होने का ऐलान कर सकते हैं उपेंद्र कुशवाहा

उन्होंने कहा कि शराब के कारण होने वाली मौतों की संख्या बुजुर्गों के मुकाबले युवाओं में ज्यादा है। शराब के कारण 20-39 साल आयु वर्ग में 13.5 प्रतिशत मौतें होती हैं। टीबी, एचआईवी और मधुमेह के मुकाबले शराब ज्यादा लोगों की जान लेती है। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार, शराब पीने से 200 से ज्यादा बीमारियों के संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

इसे भी पढ़ें: तेजस्वी ने नीतीश कुमार पर की अभद्र टिप्पणी, भाजपा ने की कड़ी निंदा

शराब बंदी दिवस के मौके पर कुमार ने यह बात कही। 2011 से ही प्रदेश में 26 नवंबर को शराब बंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। कुमार का कहना है कि शराब पीने से कैंसर, एड्स, टीबी, लिवर की बीमारियां, हृदय रोग, मनोवैज्ञानिक बीमारियां आदि बहुत कुछ का खतरा बढ़ जाता है। उन्होंने यह भी कहा कि दुनिया में 18 प्रतिशत आत्महत्या शराब पीने के कारण होती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...