यूपी में मंत्रियों के विभागों का बंटवारा, योगी ने अपने पास रखा गृह विभाग, जानें- किसको क्या मिली जिम्मेदारी

यूपी में मंत्रियों के विभागों का बंटवारा, योगी ने अपने पास रखा गृह विभाग, जानें- किसको क्या मिली जिम्मेदारी

कैबिनेट मंत्री सुरेश कुमार खन्ना को वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री की जिम्मेदारी दी गई है। वहीं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को जल शक्ति एवं बाढ़ नियंत्रण मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है। बेबी रानी मौर्य को महिला कल्याण एवं बाल विकास तथा पुष्टाहार विभाग की जिम्मेदारी दी गई है।

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ ने मंत्रालयों का बंटवारा कर दिया है। 25 मार्च को योगी आदित्यनाथ ने दूसरी बार उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। योगी आदित्यनाथ के अलावा शपथ समारोह में 52 अन्य मंत्रियों ने शपथ ली थी। अब उन मंत्रियों के विभागों का बंटवारा कर दिया गया है। सबसे खास बात यह है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गृह विभाग को अपने पास ही रखा है। इसके अलावा नियुक्ति, कार्मिक, सतर्कता, आवास एवं शहरी नियोजन और राजस्व सहित कुल 34 विभाग भी रहेंगे। इसके अलावा केशव प्रसाद मौर्य को ग्राम्य विकास एवं समग्र ग्राम विकास के साथ-साथ 6 मंत्रालयों की जिम्मेदारी दी गई है। जबकि बृजेश पाठक को स्वास्थ्य एवं स्वास्थ्य शिक्षा जैसा महत्वपूर्ण मंत्रालय सौंपा गया है। 

कैबिनेट मंत्री सुरेश कुमार खन्ना को वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री की जिम्मेदारी दी गई है। वहीं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को जल शक्ति एवं बाढ़ नियंत्रण मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है। बेबी रानी मौर्य को महिला कल्याण एवं बाल विकास तथा पुष्टाहार विभाग की जिम्मेदारी दी गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेहद करीबी माने जाने वाले पूर्व नौकरशाह अरविंद कुमार शर्मा नगर विकास शहरी समग्र विकास नगर यह रोजगार एवं गरीबी उन्मूलन ऊर्जा और अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत विभाग की जिम्मेदारी निभाएंगे। जितिन प्रसाद को लोक निर्माण विभाग सौंपा गया है। 

योगी आदित्यनाथ (मुख्यमंत्री)- नियुक्ति, कार्मिक, गृह, सतर्कता, आवास एवं शहरी नियोजन, राजस्व, खाद्य एवं रसद, नागरिक आपूर्ति, खाद्य सुरक्षा और औषधि प्रशासन, भूतत्व एवं खनिकर्म, अर्थ एवं संख्या, राज्य कर एवं निबंधन, सामान्य प्रशासन, सचिवालय प्रशासन, गोपन, सूचना, निर्वाचन, संस्थागत वित्त, | नियोजन, राज्य संपत्ति, प्रशासनिक सुधार, कार्यक्रम कार्यान्वयन, अवस्थापना, नागरिक उड्डयन, न्याय, सैनिक कल्याण समेत 34 मंत्रालय

डिप्टी सीएम

केशव प्रसाद मौर्य- ग्राम्य विकास एवं समग्र ग्राम विकास, ग्रामीण अभियंत्रण, खाद्य प्रसंस्करण, मनोरंजन कर, सार्वजनिक उद्यम, राष्ट्रीय एकीकरण

ब्रजेश पाठक- चिकित्सा शिक्षा, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, परिवार कल्याण तथा मातृ एवं शिशु कल्याण

कैबिनेट मंत्री

सूर्य प्रताप शाही- कृषि, कृषि शिक्षा एवं कृषि अनुसंधान

सुरेश कुमार खन्ना- वित्त, संसदीय कार्य

स्वतंत्र देव सिंह- जल शक्ति, नमामि गंगे तथा ग्रामीण जलापूर्ति, सिंचाई एवं जल संसाधन, सिंचाई (यांत्रिकी), लघु सिंचाई, परती भूमि विकास, बाढ़ नियंत्रण

बेबी रानी मौर्य- महिला कल्याण, बाल विकास एवं पुष्टाहार

लक्ष्मी नारायण चौधरी- गन्ना विकास, चीनी मिलें

जयवीर सिंह- पर्यटन एवं संस्कृति

धर्मपाल सिंह- पशुधन, दुग्ध विकास, राजनीतिक पेंशन, अल्पसंख्यक कल्याण, मुस्लिम वक्फ एवं हज, नागरिक सुरक्षा

नंद गोपाल गुप्ता नंदी- औद्योगिक विकास, निर्यात प्रोत्साहन, एनआरआई, निवेश प्रोत्साहन

भूपेंद्र सिंह चौधरी- पंचायती राज

अनिल राजभर- श्रम, सेवायोजन, समन्वय

जितिन प्रसाद- लोक निर्माण

राकेश सचान- सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम, खादी एवं ग्रामोद्योग, रेशम उद्योग, हथरकथा, वस्त्रोद्योग

अरविंद कुमार- नगर विकास, शहरी समग्र विकास, नगरीय रोजगार एवं गरीबी उन्मूलन, ऊर्जा, अतिरिक्त ऊर्जा स्त्रोत

योगेंद्र उपाध्याय- उच्च शिक्षा, विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी, इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रोद्योगिकी

आशीष पटेल- प्राविधिक शिक्षा, उपभोक्ता संरक्षण एवं बॉट माप

संजय निषाद- मत्स्य





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।