वाराणसी में दिव्यांग और बुजुर्ग मतदाता घर से देंगे वोट, बीएलओ द्वारा किया जा रहा निरीक्षण

वाराणसी में दिव्यांग और बुजुर्ग मतदाता घर से देंगे वोट, बीएलओ द्वारा किया जा रहा निरीक्षण

वाराणसी जिले में कुल 3361 बूथ है, और सभी वोटिंग बूथों पर बीएलओ की भी नियुक्ति की जा चुकी है। हालांकि जिले के प्रत्येक बुजुर्ग व दिव्यांग वोटरों के घर तक पहुंच कर उनसे पूछताछ करना एक बड़ी चुनौती होगी, लेकिन जिला प्रशासन ने तय अवधि में यह काम पूरा कर लेने का आश्वासन दिया है।

वाराणसी।इस बार उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए, निर्वाचन आयोग ने अस्सी वर्ष से ऊपर के बुजुर्गों व दिव्यांग मतदाताओं को, घर से मतदान की सुविधा देने के लिए निर्देश दिया है। इसी क्रम में, वाराणसी जिले के 42786 अस्सी वर्ष के ऊपर के मतदाताओं और 24615 दिव्यांग मतदाताओं की सूची लगभग तैयार हो चुकी है। इन सभी वोटरों के मतदान के लिए इनके एड्रेस का वेरिफिकेशन भी किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के जन्मदिन पर, वाराणसी में कटा केक, गरीबों को बांटें गए फल

जिला निर्वाचन अधिकारी कौशल राज शर्मा के निर्देशानुसार, सभी नियुक्त बीएलओ दिव्यांग और अस्सी वर्ष के ऊपर वाले इन मतदाताओं के घर जाकर निरीक्षण करेंगे। सभी बीएलओ को मतदाता के उक्त एड्रेस की जानकारी इकट्ठा करनी है, और वह बूथ पर जाकर वोट देना चाहते हैं, या घर पर वोटिंग की सुविधा चाहते हैं, इस बात को पूछना है। अगर कोई मतदाता अपनी उम्र या दिव्यांगता को दर्शाते हुए घर पर वोटिंग की सुविधा चाहता है तो, उनका नाम मतदाता सूची में मार्क कर लिया जाए, ताकि वह बूथ और घर दोनो जगहों पर मतदान का प्रयोग ना कर सके।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के जन्मदिन पर, वाराणसी में कटा केक, गरीबों को बांटें गए फल

वाराणसी जिले में कुल 3361 बूथ है, और सभी वोटिंग बूथों पर बीएलओ की भी नियुक्ति की जा चुकी है। हालांकि जिले के प्रत्येक बुजुर्ग व दिव्यांग वोटरों के घर तक पहुंच कर उनसे पूछताछ करना एक बड़ी चुनौती होगी, लेकिन जिला प्रशासन ने तय अवधि में यह काम पूरा कर लेने का आश्वासन दिया है। अधिकारियों को कहना है की, चिहिन्त बुजुर्ग व दिव्यांग मतदाताओं के लिए वोट करने की व्यवस्था, मतदान से पूर्व पूरी हो जायेगी, और उनकी वोटिंग बैलेट पेपर का इस्तेमाल कर होगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।