• असम-मिजोरम सीमा विवाद पर बोले सरमा, हम अपनी जमीन पर अतिक्रमण बर्दाश्त नहीं करेंगे

मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने कहा कि असम-नागालैंड और असम-मिजोरम दोनों सीमाओं पर थोड़ा बहुत तनाव है। हमारी संवैधानिक सीमा की रक्षा के लिए असम पुलिस को तैनात किया गया है।

गुवाहाटी। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने असम-मिजोरम सीमा विवाद को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि हम अपनी जमीन पर अतिक्रमण बर्दाश्त नहीं करेंगे। आपको बता दें कि असम की बराक घाटी में पड़ने वाले जिलों कछार, करीमगंज और हैलाकांडी की 164 किमी सीमा मिजोरम के तीन जिलों आइजोल,कोलासीब और मामित से मिलती है। क्षेत्रीय विवाद के बाद, अगस्त 2020 में और इस साल फरवरी में अंतरराज्यीय सीमा पर झड़पें हुई थी। 

इसे भी पढ़ें: हिमंत बिस्व सरमा बोले, किसी को भी महिला को धोखा देने की नहीं दी जाएगी अनुमति, चाहे वो हिंदू हो या मुसलमान 

ऐसे में पूर्व की स्थित को बहाल करने के लिए मुख्य सचिव स्तर की वार्ता शुक्रवार को हुई थी। जो बेनतीजा रही। इसी बीच मुख्यमंत्री का बयान भी सामने आया। उन्होंने कहा कि असम-नागालैंड और असम-मिजोरम दोनों सीमाओं पर थोड़ा बहुत तनाव है। हमारी संवैधानिक सीमा की रक्षा के लिए असम पुलिस को तैनात किया गया है। पूर्वोत्तर का प्रवेश द्वार होने के नाते हम हमेशा सुर्खियों में बने रहते हैं।

मुख्यमंत्री ने बताई 'जिहाद' की नई परिभाषा !

इस दौरान मुख्यमंत्री ने जिहाद को लेकर अजीबोगरीब बयान दिया। उन्होंने कहा कि हिन्दू लड़के का हिन्दू लड़की से झूठ बोलना भी जिहाद है। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री ने तो इसके खिलाफ कानून लाने की भी बात कही। दो महीने पहले हिमंत बिस्व सरमा को असम की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। जिसके बाद हासिल कई गई उपलब्धियों के बारे में उन्होंने जानकारी दी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हिन्दू लड़के का हिन्दू लड़की से झूठ बोलना भी जिहाद है। हम इसके खिलाफ कानून लाएंगे। उन्होंने कहा कि हिंदुत्व 5,000 साल पुराना है और इसे रोका नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि हिंदुत्व जीवन का एक तरीका है और हम सभी हिंदुओं के वंशज हैं। 

इसे भी पढ़ें: क्या है दो संतान नीति? असम और उत्तर प्रदेश सरकार के प्रस्ताव के बारे में जानें सबकुछ 

हिमंत बिस्व सरमा ने मानना है कि हिंदुत्व को हटाया नहीं जा सकता क्योंकि इसका मतलब होगा अपनी जड़ों और मातृभूमि से दूर जाना। 'लव जिहाद' से जुड़े हुए सवाल पर उन्होंने कहा कि मुझे इस शब्द को लेकर आपत्ति है लेकिन किसी को भी महिला को धोखा देने की अनुमति नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार हिन्दू या मुस्लिम किसी के द्वारा भी महिला को धोखा दिए जाने को बर्दाश्त नहीं करेगी।

गौरतलब है कि असम-मिजोरम के बीच विवाद मिजोरम के कोलासीब जिले में झड़पों के बाद शुरू हुआ था, जिसकी सीमा असम के हैलाकांडी जिले से लगी हुई है। हालांकि असम-मिजोरम सीमा पर स्थिति अब शांतिपूर्ण है। दोनों राज्यों के सुरक्षा बल सीमा के दोनों ओर विवादित क्षेत्र में डेरा डाले हुए बैठे हैं।