दमदम पार्क में जूतों से सजाया गया दुर्गा पूजा पंडाल, शुभेंदु अधिकारी ने गृह सचिव से की हस्तक्षेप की मांग

दमदम पार्क में जूतों से सजाया गया दुर्गा पूजा पंडाल, शुभेंदु अधिकारी ने गृह सचिव से की हस्तक्षेप की मांग

भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने ट्वीट किया कि दमदम पार्क में एक दुर्गा पूजा पंडाल को जूतों से सजाया गया है। कलात्मक स्वतंत्रता के नाम पर मां दुर्गा का अपमान करने का यह जघन्य कृत्य बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने संस्कृति नाम पर कुछ भी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। आपको बता दें कि भाजपा नेता ने कलात्मक स्वतंत्रता के नाम पर मां दुर्गा का अपमान करने का जघन्य कृत्य बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। दरअसल, उत्तर 24 परगना जिले के दमदम पार्क में एक दुर्गा पंडाल को जूतों से सजाया गया है। 

इसे भी पढ़ें: कोर्ट से शुभेंदु अधिकारी को मिली दुर्गा पूजा की अनुमति, ममता सरकार ने नहीं दी थी इजाजत 

भाजपा नेता ने की शिकायत

भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने ट्वीट किया कि दमदम पार्क में एक दुर्गा पूजा पंडाल को जूतों से सजाया गया है। कलात्मक स्वतंत्रता के नाम पर मां दुर्गा का अपमान करने का यह जघन्य कृत्य बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मैं मुख्य और गृह सचिव से हस्तक्षेप करने का आग्रह करता हूं। उन्होंने कहा कि पूजा पंडाल से षष्ठी से पहले जूते निकलवा दिए जाएं।

इससे पहले शुभेंदु अधिकारी ने दुर्गा पूजा आयोजन की अनुमति के लिए अदालत का रुख किया था क्योंकि बंगाल ममता सरकार ने दुर्गा पूजा आयोजित करने की अनुमति नहीं दी थी। ऐसा इसलिए था क्योंकि जिस जमीन पर दुर्गा पूजा का आयोजन होता है वह राज्य सिंचाई विभाग की है। ऐसे में ममता बनर्जी की सरकार ने इजाजत देने मना कर दिया था। 

इसे भी पढ़ें: अभिषेक बनर्जी पर बरसे शुभेंदु अधिकारी, बोले- भाजपा के वोटों को कोई नियंत्रित नहीं कर सकता 

जिसके बाद शुभेंदु अधिकारी ने दुर्गा पूजा की इजाजत के लिए हाई कोर्ट का रुख किया। जिस पर अदालत ने कहा कि लक्ष्मी पूजा के समापन उपरांत आयोजकों को 18 अक्टूबर तक मैदान खाली कर देना होगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।