आर्थिक सर्वेक्षण में भारतीयों के लिए संपदा सृजन पर दिया गया जोर: PM मोदी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 31, 2020   17:58
आर्थिक सर्वेक्षण में भारतीयों के लिए संपदा सृजन पर दिया गया जोर: PM मोदी

आर्थिक सर्वेक्षण में भारतीयों के लिये सम्पत्ति सृजन पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि उद्यमिता, निर्यात एवं कारोबार के अनुकूल माहौल बनाकर 5000 अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य को हासिल करने के लिये बहुआयामी रणनीति का खाका पेश किया गया है।

नयी दिल्ली। आर्थिक सर्वेक्षण में भारतीयों के लिये सम्पत्ति सृजन पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि उद्यमिता, निर्यात एवं कारोबार के अनुकूल माहौल बनाकर 5000 अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य को हासिल करने के लिये बहुआयामी रणनीति का खाका पेश किया गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘ आर्थिक सर्वेक्षण 2019-20 में 130 करोड़ भारतीयों के लिये सम्पत्ति सृजन पर जोर दिया गया है।’’

इसे भी पढ़ें: Economic Survey 2020: अगले वित्त वर्ष में 6-6.50% के दायरे में होगी आर्थिक वृद्धि

उन्होंने कहा, ‘‘इसमें उद्यमिता, निर्यात एवं कारोबार के अनुकूल माहौल बनाकर 5000 अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य को हासिल करने के लिये बहुआयामी रणनीति का खाका पेश किया गया है।’’ आर्थिक समीक्षा में कहा गया है कि वृद्धि दर में जारी सुस्ती का दौर अब समाप्त हो चुका है और अगले वित्त वर्ष 2020- 21 में वृद्धि दर सुधर कर 6 से 6.50 प्रतिशत के दायरे में पहुंच जायेगी। आर्थिक समीक्षा में देश में संपत्ति सृजन पर जोर दिया गया है। इसमें कहा गया है कि संपत्ति का वितरण होना चाहिये लेकिन वितरण से पहले संपत्ति का सृजन करने की आवश्यकता होती है।’’ समीक्षा में संपत्ति सृजित करने वालों को सम्मान दिए जाने पर बल दिया गया है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...