कश्मीर के रामबन में मुठभेड़, तीन आतंकवादी मारे गए, एक जवान शहीद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 28, 2019   17:43
कश्मीर के रामबन में मुठभेड़, तीन आतंकवादी मारे गए, एक जवान शहीद

अधिकारी ने बताया कि बेहद खराब मौसम के बावजूद गहन तलाशी अभियान के बाद मकान में छुपे आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच दोपहर एक बजे फिर से गोलीबारी शुरू हो गई। उन्होंने बताया कि मकान मालिक के अंदर फंसे होने की आशंका है और उन्हें सुरक्षित बाहर निकालने का प्रयास किया जा रहा है।

रामबन/जम्मू। जम्मू-किश्तवाड़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर बटोटे में नौ घंटे चली मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने तीन आतंकवादियों को मार गिराया है। अभियान में एक जवान भी शहीद हुआ है। सेना के एक अधिकारी ने शनिवार को बताया कि मुठभेड़ पहले राजमार्ग के पास हुई। बाद में आतंकवादी वहां से भागकर मुख्य बाजार स्थित एक मकान में छुप गए। सुरक्षा बलों ने उन्हें सभी ओर से घेर लिया है। वहीं जम्मू कश्मीर में श्रीनगर के पुराने इलाके में शनिवार को आतंकवादियों ने केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों पर एक ग्रेनेड फेंका। हालांकि यह हमला नाकाम रहा और ग्रेनेड निशाने से चूक गया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। जम्मू स्थित रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने कहा, ‘‘मुठभेड़ समाप्त हो गयी है। हमने तीन आतंकवादियों को मार गिराया है। 

अभियान में एक जवान भी शहीद हुआ है।’’ उन्होंने कहा कि अभी तलाशी अभियान जारी है। विस्तृत जानकारी की प्रतीक्षा है। इससे पहले पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया था कि एक मकान में पांच आतंकवादी छिपे हुए हैं। उन्होंने बताया था कि आतंकवादियों ने शनिवार सुबह सेना के त्वरित कार्रवाई दल (क्यूआरटी) पर हमला कर भागने का प्रयास किया था। लेकिन दल ने उनका पीछा कर उन्हें घेर लिया। अधिकारी ने बताया कि बेहद खराब मौसम के बावजूद गहन तलाशी अभियान के बाद मकान में छुपे आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच दोपहर एक बजे फिर से गोलीबारी शुरू हो गई। उन्होंने बताया कि मकान मालिक के अंदर फंसे होने की आशंका है और उन्हें सुरक्षित बाहर निकालने का प्रयास किया जा रहा है। उनके परिवार के अन्य सदस्य बाहर आ गए थे और उन्हें सुरक्षित रखा गया है। सुरक्षा बलों द्वारा पीछा किए जाने के दौरान आतंकवादी जबरन इस मकान में घुस गए। आतंकवादियों ने सुबह ग्रेनेड फेंका और धारमुंड गांव में सेना के क्यूआरटी पर गोलीबारी की जिसके बाद मुठभेड़ हुई। 

इसे भी पढ़ें: उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडु बोले, आतंकवाद के मुद्दे पर एकजुट हो पूरी दुनिया

उन्होंने बताया कि सेना के अतिरिक्त जवानों और पुलिस कर्मियों को भी मौके पर भेजा गया है। पूरे इलाके की घेराबंदी की गई है ताकि आंतकवादियों के भागने की हर कोशिश को नाकाम किया जा सके। ऐसा माना जा रहा है कि आतंकवादी किश्तवाड़ की तरफ से आए और उन्होंने राजमार्ग पर अस्थायी शिविर में रात गुजारी।लेफ्टिनेंट कर्नल आनंद ने कहा, ‘‘आज शनिवार सुबह करीब साढ़े सात बजे, दो संदिग्धों ने एक वाहन को बटोटे में राजमार्ग पर रोकने की कोशिश की। चालक ने समझदारी दिखाते हुए वाहन को रोका नहीं और तुरंत ही नजदीकी सेना की चौकी को इसकी जानकारी दी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘क्यूआरटी फौरन हरकत में आया और संदिग्धों का पता लगाया।’’ अधिकारियों ने बताया कि घटना के बाद एहतियाती तौर पर राजमार्ग पर वाहनों की आवाजाही रोक दी गई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...