सात महीने से जारी है किसानों का आंदोलन, राकेश टिकैत की चेतावनी, हर महीने आती है 26 तारीख

सात महीने से जारी है किसानों का आंदोलन, राकेश टिकैत की चेतावनी, हर महीने आती है 26 तारीख

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि 4 लाख ट्रैक्टर्स और 25 लाख लोग यहां पर हैं। ये ट्रैक्टर इसी देश के हैं और हम लोग अफगानिस्तान से नहीं आए हैं।

नयी दिल्ली। केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों का पिछले सात महीने से आंदोलन जारी है। किसानों की मांग है कि केंद्र सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस ले और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) कानून बनाया जाए। इसी बीच भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत का बयान सामने आया है।

इसे भी पढ़ें: राकेश टिकैत ने बताई 26 तारीख की योजना, बोले- हम राज्यपाल के माध्यम से कहेंगे अपनी बात

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि 4 लाख ट्रैक्टर्स और 25 लाख लोग यहां पर हैं। ये ट्रैक्टर इसी देश के हैं और हम लोग अफगानिस्तान से नहीं आए हैं। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक किसान नेता ने कहा कि पिछले सात महीने से हमारा आंदोलन चल रहा है, सरकार को शर्म नहीं आती? कोरोना की तीसरी वेव आती है तो भी हम यहीं रहेंगे। आंदोलन शांतिपूर्ण तरीके से चलता रहेगा।

इससे पहले उन्होंने ट्वीट करके सरकार को चेतावनी दी कि 26 तारीख हर महीने आती है। सरकार इस बात को याद रख लें। उन्होंने कहा कि चार लाख ट्रैक्टर भी यही हैं, 25 लाख किसान भी यही हैं और 26 तारीख भी हर महीने आती है ये सरकार याद रख लें ...। 

इसे भी पढ़ें: सरकार यह गलतफहमी अपने दिमाग से निकाल दे कि किसान वापस जाएंगे: राकेश टिकैत

गौरतलब है कि किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा था कि 26 तारीख को लोग हर राज्य में राज्यपाल या उपराज्यपाल के यहां जाएंगे। उनको ज्ञापन देंगे और मिलेंगे। कोरोना है तो 5-6 लोग जाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि अगर सरकार नहीं सुन रही है तो राज्यपाल और राष्ट्रपति बड़े होते हैं। हम राज्यपाल के माध्यम से अपनी बात कहेंगे। आपको ज्ञात हो तो 26 जनवरी के दिन किसानों ने दिल्ली कूच किया था। जिनमें शामिल कुछ अराजक तत्वों ने लाल किले में एक धर्म विशेष का झंडा फहराया गया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...