सतीश पूनियां ने गहलोत सरकार पर साधा निशाना, कहा- दो साल के जंगलराज से प्रदेश का हर तबका परेशान है

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 28, 2020   19:31
सतीश पूनियां ने गहलोत सरकार पर साधा निशाना, कहा- दो साल के जंगलराज से प्रदेश का हर तबका परेशान है

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां एक बयान में कहा कि सोई हुई राज्य सरकार को जगाने ने लिए भाजपा राजस्थान के ओबीसी मोर्चा की ओर प्रदेशभर में विरोध-प्रदर्शन किया गया।

जयपुर। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने रविवार को राज्य की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार के दो साल के जंगलराज से समाज का हर तबका परेशान, हैरान और व्याकुल है। उन्होंने राज्य की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा, ‘‘अपराधी बेखौफ होकर कानून की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे हैं, महिलाएं असुरक्षित महसूस कर रही हैं, किसान सम्पूर्ण कर्जमाफी की आस लगाए बैठे हैं... गहलोत जी अब तो प्रदेश की जनता के साथ न्याय कर दो।’’ 

इसे भी पढ़ें: अशोक गहलोत का दावा, हमने आधे चुनावी वादे दो साल में ही पूरे कर दिखाए 

पूनियां ने एक बयान में कहा कि सोई हुई राज्य सरकार को जगाने ने लिए भाजपा राजस्थान के ओबीसी मोर्चा की ओर प्रदेशभर में विरोध-प्रदर्शन किया गया। जयपुर के सिविल लाइन फाटक पर ओबीसी मोर्चे के प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश भड़ाणा के नेतृत्व में मोर्चा कार्यकर्ताओं ने ढ़ोल-नगाडे एवं काले गुब्बारे के साथ सरकार विरोधी नारे लगाकर विरोध-प्रदर्शन किया। उसके बाद मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन जिला कलेक्टर को सौंपा। 

इसे भी पढ़ें: देश दुनिया के निवेशकों को आकर्षित कर सकता है राजस्थान: अशोक गहलोत 

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भड़ाणा ने आरोप लगाया कि चुनाव के समय कांग्रेस ने सत्ता पाने के लिए प्रदेश की जनता से किसानों की सम्पूर्ण कर्जमाफी, बेरोजगार युवाओं को बेरोजगारी भत्ता देने, बिजली की दरों में बढोत्तरी नहीं करने सहित कई वादे किए थे लेकिन सत्ता में आने पर उसने वादे पूरे नहीं किए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।