मंत्री ईश्वरप्पा के खिलाफ दर्ज हुआ मामला, संतोष पाटिल के भाई ने शव लेने से किया इंकार, कहा- पहले नेता की हो गिरफ्तारी

Santosh Patils brother
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
अनुराग गुप्ता । Apr 13, 2022 12:16PM
ठेकेदार प्रशांत पाटिल ने कहा कि कर्नाटक सरकार में मंत्री केएस ईश्वरप्पा और उनके सहयोगियों बसवराज और रमेश को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। हम अपने भाई के लिए इंसाफ चाहते हैं। जिन लोगों के नाम एफआईआर में दर्ज हैं, जब तक उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जाता तब तक हम अपने भाई का शव नहीं लेंगे।

बेंगलुरू। कर्नाटक के उडुपी में हिंदू वाहिनी के नेशनल सेक्रेटरी और ठेकेदार संतोष पाटिल शव लेने से परिजनों ने इनकार कर दिया है। दरअसल, ठेकेदार संतोष पाटिल मंगलवार को उडुपी के एक होटल के कमरे में मृत पाए गए थे। जिसके बाद से पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है। इसी बीच संतोष पाटिल के भाई प्रशांत पाटिल ने कर्नाटक मंत्री केएस ईश्वरप्पा की गिरफ्तारी की मांग करते हुए भाई का शव लेने से इनकार कर दिया। 

इसे भी पढ़ें: हिंदू वाहिनी के नेता होटल में पाए गए मृत, कांग्रेस ने बोम्मई सरकार को घेरा, कहा- मंत्री ईश्वरप्पा को किया जाए गिरफ्तार 

समाचार एजेंसी एएनआई के के मुताबिक, प्रशांत पाटिल ने कहा कि कर्नाटक सरकार में मंत्री केएस ईश्वरप्पा और उनके सहयोगियों बसवराज और रमेश को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। हम अपने भाई के लिए इंसाफ चाहते हैं। जिन लोगों के नाम एफआईआर में दर्ज हैं, जब तक उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जाता तब तक हम अपने भाई का शव नहीं लेंगे।

केएस ईश्वरप्पा की बढ़ी मुश्किलें

कर्नाटक सरकार में मंत्री केएस ईश्वरप्पा की मुश्किलें बढ़ गई हैं। आपको बता दें कि केएस ईश्वरप्पा के ऊपर संतोष पाटिल को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप लगे हैं। जिसके तहत केएस ईश्वरप्पा के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। इस संबंध में मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा कि मंत्री के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और हमने सारी जानकारियां एकत्रित कर ली हैं। 

इसे भी पढ़ें: भड़काऊ बयान देने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने के लिए पुलिस को निर्देश दिया गया: बोम्मई 

कांग्रेस ने बनाया दबाव

कांग्रेस ने संतोष पाटिल की मौत मामले में केएस ईश्वरप्पा के इस्तीफे की मांग करते हुए कर्नाटक सरकार पर दबाव बनाने का प्रयास किया। इतना ही नहीं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने राज्यपाल से भी मुलाकात की है। इस दौरान उन्होंने राज्यपाल से केएस ईश्वरप्पा को बर्खास्त करने और गिरफ्तार किए जाने की आग्रह किया।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़