प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को 6 माह आगे बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त किया

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को 6 माह आगे  बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त किया

मुख्यमंत्री ने कहा कि अप्रैल, 2022 से पीएम-जीकेएवाई के रूप में देश में दुनिया का सबसे बड़ा खाद्य सुरक्षा कार्यक्रम कार्यान्वित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अब तक इस योजना के अंतर्गत केन्द्र सरकार ने लगभग 2.60 लाख करोड़ रुपये व्यय किए हैं और अगले छः महीनों यानि सितम्बर, 2022 तक 80,000 करोड़ रुपये व्यय किए जायेंगे।

शिमला ।  मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएम-जीकेएवाई) को अगले छः माह यानि सितम्बर, 2022 तक बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त किया। यह इस योजना का छठा चरण होगा।   इस योजना का पांचवा चरण मार्च, 2022 में समाप्त हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अप्रैल, 2022 से पीएम-जीकेएवाई के रूप में देश में  दुनिया का सबसे बड़ा खाद्य सुरक्षा कार्यक्रम कार्यान्वित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अब तक इस योजना के अंतर्गत केन्द्र सरकार ने लगभग 2.60 लाख करोड़ रुपये व्यय किए हैं और अगले छः महीनों यानि सितम्बर, 2022 तक 80,000 करोड़ रुपये व्यय किए जायेंगे। उन्होंने कहा कि पीएम-जीकेएवाई के अंतर्गत होने वाला कुल व्यय लगभग 3.40 लाख करोड़ होगा।  

इसे भी पढ़ें: युवा मोर्चा भाजपा का एक महत्वपूर्ण विंग है--जय राम ठाकुर

जय राम ठाकुर ने कहा कि भारत सरकार द्वारा वित्तपोषित इस योजना के अंतर्गत भारत में लगभग 80 करोड़ लाभार्थियों को कवर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस योजना से प्रदेशवासी भी लाभान्वित होंगे।

इसे भी पढ़ें: 80 करोड़ लोगों को सितंबर तक मुफ़्त राशन का निर्णय अभिनंदनीय : अनुराग ठाकुर

मुख्यमंत्री ने कहा कि पीएम-जीकेएवाई के अंतर्गत प्रत्येक लाभार्थी को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत खाद्यान्न के सामान्य कोटे के अतिरिक्त प्रति व्यक्ति प्रति माह अतिरिक्त पांच किलोग्राम निःशुल्क राशन प्रदान किया जाएगा, अर्थात हर गरीब परिवार को सामान्य राशन से लगभग दोगुना राशन मिलेगा।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।