फडणवीस बोले- जिस प्रकार से घोटाले सामने आ रहे हैं, विधानसभा सत्र आयोजित करने से बच रही महाराष्ट्र सरकार

फडणवीस बोले- जिस प्रकार से घोटाले सामने आ रहे हैं, विधानसभा सत्र आयोजित करने से बच रही महाराष्ट्र सरकार

फडणवीस ने कहा कि हमने राज्यपाल जी से कहा है कि वे सरकार से अधिवेशन पूरी अवधि तक करने को कहे और उनसे निवेदन किया कि यहां संवैधानिक प्रक्रिया का पालन नहीं हो रहा है इस पर वे राष्ट्रपति को एक रिपोर्ट भेजे। हमने मांग कि जब तक OBC आरक्षण बहाल नहीं होता तब तक महाराष्ट्र में चुनाव न हो।

महाराष्ट्र विधानसभा में नेता विपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने विधानसभा सत्र को लेकर एक बार फिर से राज्य सरकार पर हमला बोला है। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि माननीय राज्यपाल जी से हमने भेंट की और निवदेन किया कि महाराष्ट्र सरकार विधानसभा सत्र आयोजित करने से बच रही है। जिस प्रकार से सरकार के घोटाले सामने आ रहे हैं उससे चिंतित सरकार विधानसभा में चर्चा नहीं करना चाहती। सिर्फ 2 दिन का अधिवेशन उन्होंने आयोजित किया है। 

इसे भी पढ़ें: उद्धव ठाकरे ने टाटा कैंसर अस्पताल को म्हाडा इमारतों के 100 फ्लैट के आवंटन पर रोक लगाई

 फडणवीस ने कहा कि हमने राज्यपाल जी से कहा है कि वे सरकार से अधिवेशन पूरी अवधि तक करने को कहे और उनसे निवेदन किया कि यहां संवैधानिक प्रक्रिया का पालन नहीं हो रहा है इस पर वे राष्ट्रपति  को एक रिपोर्ट भेजे। हमने मांग कि जब तक OBC आरक्षण बहाल नहीं होता तब तक महाराष्ट्र में चुनाव न हो। गौरतलब है कि देवेंद्र फडणवीस विधानसभा सत्र बुलाने को लेकर लगातार उद्धव सरकार पर हमलावर हैं। उन्होंने इससे पहले भी महाराष्ट्र सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा था कि सरकार जन सरोकार के मुद्दे से भागने की कोशिश कर रही है। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश सरकार ने महाराष्ट्र से आने वाली बसों पर प्रतिबंध 30 जून तक बढ़ाया

फडणवीस ने कहा कि किसान और मराठा आरक्षण जैसे महत्वपूर्ण मुद्दे जिसका समाधान जल्द से जल्द जरूरी है लेकिन यह सरकार इन पर चर्चा करने की बजाय इससे बचना चाहती है। फडणवीस ने कहा कि हमारी बातों को नहीं सुनी जा रही है और यही कारण है कि हम आज व्यापार सलाहकार समिति की बैठक से बाहर चले गए।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।