अखिलेश यादव के नाम पर बनाया गया फर्जी ट्विटर अकाउंट, नफरत फैलाने वाले अज्ञातों पर केस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 27, 2021   15:41
अखिलेश यादव के नाम पर बनाया गया फर्जी ट्विटर अकाउंट, नफरत फैलाने वाले अज्ञातों पर केस

सपा के ट्वीट के मुताबिक पूर्व मुख्यमंत्री एवं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के नाम से फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाकर कथित रूप से नफरत फैलाने वालों के खिलाफ सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने प्राथमिकी दर्ज कराई है।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश के नाम पर कथित तौर पर फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाकर कथित नफरत फैलाने वाले अज्ञात लोगों के खिलाफ यहां के गौतमपल्ली थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई है। पार्टी ने मंगलवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी। सपा के ट्वीट के मुताबिक पूर्व मुख्यमंत्री एवं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के नाम से फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाकर कथित रूप से नफरत फैलाने वालों के खिलाफ सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने प्राथमिकी दर्ज कराई है। सपा ने आरोप लगाया कि सत्ता के संरक्षण में शांति व्यवस्था बिगाड़ने और बदनाम करने का खेल चल रहा है।

इसे भी पढ़ें: टीएस सिंहदेव विवाद में रमन सिंह ने ली चुटकी, बोले- 2.5 साल आते-आते पूरी तरह से बिखर गई बघेल सरकार

पटेल की शिकायत पर यहां राजधानी के गौतमपल्ली थाना में अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। पटेल ने रविवार को अपनी शिकायत में कहा कि अखिलेश यादव के खिलाफ साजिश करने के मकसद से उनके नाम से ट्विटर पर झूठा बयान डाला गया कि समाजवादी पार्टी की सरकार बनने के बाद अयोध्या में बाबरी मस्जिद का निर्माण किया जाएगा। उत्तम ने ऐसे संदेशों के स्क्रीन शॉट पुलिस को दिये हैं। गौतमपल्‍ली के थाना प्रभारी रत्नेश कुमार सिंह ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल की शिकायत पर आईपीसी और आईटी अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत अज्ञात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।