किसान नेता राकेश टिकैत को मिली जान से मारने की धमकी, अपशब्द भी कहे गए, शिकायत दर्ज

किसान नेता राकेश टिकैत को मिली जान से मारने की धमकी, अपशब्द भी कहे गए, शिकायत दर्ज

मुजफ्फरनगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) अभिषेक यादव ने बताय कि पुलिस ने भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) नेता के ड्राइवर परजवाल त्यागी की शिकायत के आधार पर सिविल लाइन्स थाने में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के विरोध प्रदर्शन के बाद से किसान नेता राकेश टिकैत लगातार सुर्खियों में रहते हैं। इन सब के बीच एक बार फिर से राकेश टिकैत चर्चा में हैं। बताया जा रहा है कि किसान नेता राकेश टिकैत को कथित तौर पर एक अज्ञात व्यक्ति ने फोन कर जान से मारने की धमकी दी है। इतना ही नहीं, राकेश टिकैत को अपशब्द भी कहे गए हैं। इस बात की जानकारी पुलिस की ओर से दी गई है। फिलहाल इस मामले को लेकर शिकायत दर्ज कर ली गई है और जांच की शुरुआत भी हो गई है।

इसे भी पढ़ें: यूपीः मायावती ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा-मैं राष्ट्रपति पद का प्रस्ताव कभी स्वीकार नहीं करूंगी

मुजफ्फरनगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) अभिषेक यादव ने बताय कि पुलिस ने भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) नेता के ड्राइवर परजवाल त्यागी की शिकायत के आधार पर सिविल लाइन्स थाने में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने कहा कि इस बीच वरिष्ठ उप निरीक्षक राकेश शर्मा के नेतृत्व में पुलिस की एक टीम टिकैत के आवास पर गई और उनसे बात की। राकेश टिकैत ने दावा किया है कि उन्हें एक युवक ने फोन पर धमकी दी है और अभद्र टिप्पणी की। इस अज्ञात व्यक्ति ने टिकैत को फोन किया था, उसने उनके परिवार तक को भी गाली दी है। इसके अलावा उस अज्ञात व्यक्ति की ओर से राकेश टिकैत के परिवार को भी फोन करके जान से मारने की धमकी दी जा रही है।

इसे भी पढ़ें: योगी 2.0 मंत्रिमंडल: भाजपा की ये रणनीति बढ़ाएगी अखिलेश यादव की सीयासी मुश्किलें

आपको बता दें कि किसान आंदोलन के दौरान भी राकेश टिकैत ही आरोप लगाते रहे हैं कि उन्हें जान से मारने की धमकी मिल रही थी। कई बार इसकी शिकायत उन्होंने गाजियाबाद पुलिस को भी की थी। इस मामले में जांच तो हुई लेकिन गिरफ्तार या नहीं हो सकी। आपको बता दें कि कृषि कानूनों को लेकर लगभग 13 महीनों तक चले आंदोलन का नेतृत्व संयुक्त किसान मोर्चा ने किया था जिसका अहम हिस्सा राकेश टिकैत भी थे। राकेश टिकैत में किसान आंदोलन के बाद से लगातार भाजपा के खिलाफ दूसरे राज्यों में जाकर जमकर प्रचार की है। माना जा रहा था कि कृषि कारणों को लेकर उत्तर प्रदेश चुनाव में भाजपा को जबरदस्त नुकसान होगी। हालांकि ऐसा कुछ हुआ नहीं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।