विज्ञान भवन में किसानों ने ठुकराया सरकारी खाना, अपना भोजन खुद लाए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 3, 2020   18:53
  • Like
विज्ञान भवन में किसानों ने ठुकराया सरकारी खाना, अपना भोजन खुद लाए

कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग के साथ जारी विरोध प्रदर्शन के बीच दोपहर के आसपास विज्ञान भवन में किसान नेताओं और सरकारके बीच चौथे दौर की बातचीत शुरू हुई। बैठक के बीच भोजनवकाश के दौरान लगभग चालीस लोगों का भोजन लेकर आई एक छोटी वैन को विज्ञान भवन के बाहर देखा गया।

नयी दिल्ली। किसान नेताओं ने बृहस्पतिवार को यहां तीन केंद्रीय मंत्रियों के साथ हुई बैठक के दौरान दिए गए भोजन को खाने से मना कर दिया और इसकी बजाय सिंघू बॉर्डर से एक वाहन में लाया गया खाना खाने को तरजीह दी। कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग के साथ जारी विरोध प्रदर्शन के बीच दोपहर के आसपास विज्ञान भवन में किसान नेताओं और सरकारके बीच चौथे दौर की बातचीत शुरू हुई। बैठक के बीच भोजनवकाश के दौरान लगभग चालीस लोगों का भोजन लेकर आई एक छोटी वैन को विज्ञान भवन के बाहर देखा गया।

लोक संघर्ष मोर्चा की अध्यक्ष प्रतिभा शिंदे ने कहा, “हमारे किसान प्रतिनिधियों ने सरकार की ओर से दिया गया भोजन स्वीकार नहीं किया और हमने अपने लिए भोजन सिंघू बॉर्डर से मंगाया।” उन्होंने कहा कि किसान नेताओं ने सरकार से कहा कि भोजन उपलब्ध करा कर अच्छा मेजबान बनने की बजाय वह मुद्दे को सुलझाने पर ध्यान केंद्रित करें। शिंदे ने कहा, “हम सरकार का दिया हुआ खाना कैसे खा सकते हैं जब हमारे साथी किसान सड़क पर बैठे हैं।” राष्ट्रीय राजधानी के सिंघू और टिकरी बॉर्डर पर हजारों किसान पिछले आठ दिन से कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, रेलवे, वाणिज्य एवं खाद्य मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य राज्यमंत्री सोम प्रकाश किसानों के प्रतिनिधियों से विज्ञान भवन में बातचीत कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: बादल की पद्म पुरस्कार वापसी सरकार के मुंह पर तमाचा: मेधा पाटकर

सरकार ने कहा कि बैठक दोपहर में शुरू हुई और अच्छे वातावरण में बातचीत हो रही है। दोनों पक्षों के बीच एक दिसंबर को हुई बातचीत बेनतीजा रही थी जब किसान संगठनों ने एक नई समिति बनाने के सरकार के सुझाव को खारिज कर दिया था। सरकार ने कानूनों को वापस लेने की मांग को खारिज कर दिया था और किसान संगठनों से कहा था कि वह नए कृषि कानूनों से संबंधित विशिष्ट मुद्दों को चिह्नित करें और दो दिसंबर तक उन्हें सौंप कर बृहस्पतिवार को बातचीत करें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


उड़ीसा HC ने महिला को 15 महीने का बच्चा पिता को देने का दिया निर्देश

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 17, 2021   12:24
  • Like
उड़ीसा HC ने महिला को 15 महीने का बच्चा पिता को देने का दिया निर्देश

उड़ीसा उच्च न्यायालय ने महिला को 15 महीने का बच्चा पिता को देने का निर्देश दिया है।अदालत ने यह निर्देश उस वीडियो को संज्ञान में लेते हुए लिया जिसमें मां बच्चे को बुरी तरह से पीट रही है और लगातार यातना दे रही है।

कटक। उड़ीसा उच्च न्यायालय ने 15 महीने के बच्चे को पिता के सुपुर्द करने की अनुमति दे दी है। अदालत ने फैसला देते हुए टिप्पणी की कि मां के साथ अलग रहना बच्चे के मानसिक, शारीरिक विकास के लिए हानिकारक हो सकता है और उसपर मानसिक रूप से नकारात्मक असर डाल सकता है।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र: ठाणे जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के 373 नए मामले, पहले दिन 79.39 प्रतिशत हुआ टीकाकरण

अदालत ने यह निर्देश उस वीडियो को संज्ञान में लेते हुए लिया जिसमें मां बच्चे को बुरी तरह से पीट रही है और लगातार यातना दे रही है। न्यायमूर्ति एसके मिश्रा और न्यायमूर्ति सावित्री राठो की खंडपीठ ने शुक्रवार को पुरी जिला निवासी चक्रधर नायक की बंदी प्रत्यक्षीकरण की याचिका स्वीकार करते हुए पत्नी को निर्देश दिया कि वह सात दिनों के भीतर बच्चे को पिता के सुपुर्द करे। अदालत ने निर्देश दिया, ‘‘ अगर महिला सात दिन में ऐसा नहीं करती है तो पुलिस उचित कार्रवाई कर बच्चे को उससे लेकर पिता के सुपुर्द करे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


राजस्थान के अनेक हिस्सों में रात का पारा गिरा,कई हिस्‍सों में कोहरा रहेगा जारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 17, 2021   12:13
  • Like
राजस्थान के अनेक हिस्सों में रात का पारा गिरा,कई हिस्‍सों में कोहरा रहेगा जारी

राजस्‍थान के अनेक हिस्‍सों में रात का पारा गिरा है।वहीं गंगानगर में यह 2.5, जैसलमेर में 6.1 , बीकानेर में 6.3 और अलवर में 7.4 डिग्री सेल्सियस रहा। राज्‍य के अनेक हिस्‍सों में रविवार सुबह घना कोहरा छाया रहा। मौसम विभाग के अनुसार राज्‍य के कई हिस्‍सों में सर्दी व कोहरे का क्रम अभी जारी रहेगा।

जयपुर। राजस्‍थान के अनेक हिस्‍सों में रात के न्‍यूनतम तापमान में गिरावट आई है जहां बीती शनिवार रात पिलानी 1.4 डिग्री सेल्सियस न्‍यनूतम तापमान के साथ सबसे सर्द रहा। मौसम विभाग के अनुसार इसी तरह चुरू में न्‍यूनतम तापमान 1.9 डिग्री सेल्सियस रहा।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र: ठाणे जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के 373 नए मामले, पहले दिन 79.39 प्रतिशत हुआ टीकाकरण

वहीं गंगानगर में यह 2.5, जैसलमेर में 6.1 , बीकानेर में 6.3 और अलवर में 7.4 डिग्री सेल्सियस रहा। राज्‍य के अनेक हिस्‍सों में रविवार सुबह घना कोहरा छाया रहा। मौसम विभाग के अनुसार राज्‍य के कई हिस्‍सों में सर्दी व कोहरे का क्रम अभी जारी रहेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


महाराष्ट्र: ठाणे जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के 373 नए मामले, पहले दिन 79.39 प्रतिशत हुआ टीकाकरण

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 17, 2021   12:09
  • Like
महाराष्ट्र: ठाणे जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के 373 नए मामले, पहले दिन 79.39 प्रतिशत हुआ टीकाकरण

ठाणे में कोविड-19 के 373 नए मामले सामने आए है।वहीं, कोविड-19 से बचाव के लिए शनिवार को शुरू हुए देशव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत पहले दिन जिले में कुल पंजीकृत 2,300 लोगों में से 1,829 लोगों ने टीका लगवाया।

ठाणे (महाराष्ट्र)। महाराष्ट्र के ठाणे जिले में कोरोना वायरस से संक्रमण के 373 नए मामले आने से यहां अबतक संक्रमित हुए कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 2,49,182 हो गई है। एक अधिकारी ने रविवार को बताया कि इस अवधि में तीन कोविड-19 मरीजों की मौत हुई है जिन्हें मिलाकर अबतक इस महामारी से 6,052 लोगों की जान जा चुकी है। वहीं, कोविड-19 से बचाव के लिए शनिवार को शुरू हुए देशव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत पहले दिन जिले में कुल पंजीकृत 2,300 लोगों में से 1,829 लोगों ने टीका लगवाया।

इसे भी पढ़ें: प्रारंभ स्टार्टअप इंडिया इंटरनेशनल समिट में बोले PM मोदी, ये डिजिटल रिवॉल्यूशन की सदी है

अधिकारी ने बताया कि ठाणे जिले में कोविड-19 मरीजों में मृत्युदर 2.44 प्रतिशत है। उन्होंने बताया कि अबतक 2,39,004 मरीज संक्रमण मुक्त हो चुके हैं जिससे मरीजों के स्वस्थ होने की दर 95.92 प्रतिशत हो गई है जबकि 4,126 मरीज इस समय जिले में उपचाराधीन हैं। वही, पड़ोसी पालघर के जिला प्रशासन के अधिकारी ने बताया कि जिले में अबतक कोरोना वायरस से संक्रमण के 44,826 मामले आए हैं जिनमें से 1,194 लोगों की मौत हुई है।

इसे भी पढ़ें: सोशल मीडिया के जरिए ठगी करने वाले इंटरनेशनल रैकेट का भंडाफोड़, पुलिस ने 12 को किया गिरफ्तार

ठाणे के जिला चिकित्सा अधिकारी मनीष रेंगे ने शनिवार देर रात संशोधित आंकड़े जारी कर बताया कि टीकाकरण के पहले दिन के लिए पंजीकृत स्वास्थ्य कर्मियों में से 79.39 प्रतिशत कर्मियों को टीका लगाया गया है। इससे पहले रेंगे ने बताया था कि शनिवार के टीकाकरण के लिए पंजीकृत कुल 2,300 लोगों में से 1,740 (75.63 प्रतिशत) ने टीका लगवाया है। जिला सिविल सर्जन कैलाश पवार ने बताया कि को-विन ऐप में खामी की वजह से टीकाकरण को आधे घंटे तक रोकना पड़ा था। हालांकि, बाद में टीकाकरण शुरू कर दिया गया। महाराष्ट्र सरकार ने ऐसे में समस्या आने के मद्देनजर शनिवार शाम को घोषणा की थी कि सोमवार तक टीकाकरण अभियान स्थगित रहेगा। ठाणे के पड़ोसी जिले में शनिवार के टीकाकरण के लिए पंजीकृत 400 लोगों में 257 को टीका लगाया गया जो 64.25 प्रतिशत है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept