बेटे ने होमवर्क नहीं किया तो पिता ने उल्टा लटकाकर पीटा, वीडियो हुआ वायरल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2021   10:59
बेटे ने होमवर्क नहीं किया तो पिता ने उल्टा लटकाकर पीटा, वीडियो हुआ वायरल

राजस्थान में होमवर्क नहीं करने पर पिता ने बेटे को उल्टा लटकाकर बेरहमी से पीटा।वीडियो वायरल होने के बाद मामला सामने आया। पांडिया ने कहा कि खनन मजदूर पुष्कर प्रजापत (35) को जब पता चला कि बेटा होमवर्क किये बगैर बाहर खेलने चला गया तो उसने उसे यह कठोर सजा दी।

कोटा (राजस्थान)। राजस्थान में एक व्यक्ति ने होमवर्क किये बगैर बाहर जाने पर अपने आठ वर्षीय बेटे को हाथ-पैर बांधकर छत से उल्टा लटका दिया और फिर बेरहमी से उसकी पिटाई की। एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी। राजस्थान राज्य बाल संरक्षण आयोग (आरएससीपीसीआर) के सदस्य डॉक्टर शैलेंद्र पांडिया ने कहा कि आयोग ने बूंदी जिले में हुई इस चौंकाने वाली घटना का वीडियो वायरल होने के बाद मामले का संज्ञान लेते हुए जिला पुलिस अधीक्षक से कार्रवाई करने को कहा है। उन्होंने कहा कि यह घटना पिछले बुधवार को बूंदी जिले के डाबी थाना क्षेत्र के नरोली गांव में हुई। बच्चे की मां जब अपने पति को क्रूर व्यवहार करने से रोकने में असमर्थ रही तो उसने इसका वीडियो बना लिया।

इसे भी पढ़ें: दिल्‍ली के आर के पुरम में जहरीली गैस फैलने से दहशत, 12 लोग अस्पताल में भर्ती

वीडियो वायरल होने के बाद मामला सामने आया। पांडिया ने कहा कि खनन मजदूर पुष्कर प्रजापत (35) को जब पता चला कि बेटा होमवर्क किये बगैर बाहर खेलने चला गया तो उसने उसे यह कठोर सजा दी। डाबी थाना के प्रभारी महेश कुमार ने कहा कि पुलिसकर्मी बच्चे के गांव गए, लेकिन उसके घर पर ताला लगा हुआ था और बच्चे की मां की ओर से कोई शिकायत नहीं मिलने के कारण वे प्राथमिकी दर्ज नहीं कर पाए। डॉक्टर पांडिया ने कहा वायरल वीडियो आरएससीपीसीआर के संज्ञान में आया, जिसने बूंदी के पुलिस अधीक्षक को मामले की जांच कराने और तीन दिनों के भीतर अपनी रिपोर्ट देने को कहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।