सत्ता में आए तो पहले 100 दिन लोगों की समस्याओं के हल के लिए:स्टालिन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2021   18:26
सत्ता में आए तो पहले 100 दिन लोगों की समस्याओं के हल के लिए:स्टालिन

विपक्ष के नेता ने कहा कि विधानसभा क्षेत्रों की यात्रा के दौरान, वह लोगों स्थानीय मुद्दों से संबंधित प्रार्थना पत्र प्राप्त करेंगे और उन्हें पावती दी जाएगी ताकि उसपर कार्रवाई सुनिश्चित की जा सके। राज्य में अप्रैल-मई में चुनाव होने हैं।

चेन्नई। द्रमुक प्रमुख एमके स्टालिन ने सोमवार को कहा कि यदि आगामी चुनाव में उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो वह शुरुआती 100 दिन लोगों से संबंधित समस्याओं को युद्धस्तर पर हल करने के लिए समर्पित करेंगे। स्टालिन ने यह भी कहा कि वह 30 दिन की उंगल थोगुथिईल स्टालिन यात्रा पर जाएंगे जिसमें वह राज्य की 234 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा करेंगे। यह यात्रा 29 जनवरी से शुरू होगी। द्रमुक प्रमुख ने यहां पत्रकारों से कहा, आपकी परेशानियों को हल करना मेरी पहली प्राथमिकता होगी। मेरी सरकार के पहले 100 दिन आपकी समस्याओं को युद्ध स्तर पर हल करने के लिए समर्पित रहेंगे। उन्होंने कहा कि यह उनका वादा है।

द्रमुक को 2011 से लगातार दो विधानसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा है और स्टालिन पार्टी को सत्ता में वापस लाने की कोशिश में जुटे हुए हैं। स्टालिन ने चुनाव से पूर्व राज्य का दौरा करने के पहले चरण का समापन हाल में किया है। इस दौरान उन्होंने गांवों में ग्राम सभाओं की बैठकों को संबोधित किया था। विपक्ष के नेता ने कहा कि विधानसभा क्षेत्रों की यात्रा के दौरान, वह लोगों स्थानीय मुद्दों से संबंधित प्रार्थना पत्र प्राप्त करेंगे और उन्हें पावती दी जाएगी ताकि उसपर कार्रवाई सुनिश्चित की जा सके। राज्य में अप्रैल-मई में चुनाव होने हैं। 

इसे भी पढ़ें: किसान आंदोलन पर राहुल गांधी ने कहा- किसानों के खिलाफ हैं कृषि कानून, लड़ाई जारी रहेगी

स्टालिन ने कहा कि जो ऐसी बैठकों में हिस्सा नहीं ले सकते हैं, वे एक समर्पित वेबसाइट, मोबाइल ऐप या फोन कॉल के जरिए अपनी शिकायत बता सकते हैं। राज्य में 2011 से सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक पर हमला बोलते हुए स्टालिन ने कहा कि 10 साल के शासन के दौरान तमिलनाडु का सभी क्षेत्रों में बुरा हाल है, जिसमें निवेश व रोजगार सृजन भी शामिल है जबकि राज्य पर पांच लाख करोड़ रुपये का कर्ज का बोझ है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।