कमिश्नर सिस्टम लागू होने के बाद भोपाल में पहला खूनी संघर्ष, पुलिस कर रही है मामले की जांच

कमिश्नर सिस्टम लागू होने के बाद भोपाल में पहला खूनी संघर्ष, पुलिस कर रही है मामले की जांच
प्रतिरूप फोटो

खूनी वारदात के बाद अशोका गार्डन पुलिस मौके पर पहुंची। घटना स्थल पर खून से सनी लाश, सड़क पर खून के छींटे पड़े मिले। जख्मी हालत में लोग दर्द से कराहते मिले। खूनी संघर्ष में गंभीर रूप से घायल सभी लोगों को अस्पताल में भर्ती करवाया।

भोपाल। राजधानी भोपाल में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू होने के बाद गुंडा-बादमाश राज अभी भी अपनी गति से चल रहा है।कमिश्नर सिस्टम लागू होने के बाद शहर में पहला खूनी संघर्ष हुआ है। भोपाल के अशोका गार्डन में 2 गुटों के बीच जमकर तलवारबाजी हुई है। जिसमें एक बदमाश की हत्या कर दी गई है। जिसके बाद 5 लोग गंभीर रूप से घायल है।

दरअसल इस खूनी संघर्ष में स्थानीय बदमाश मोनू मटका की हत्या की गई है। दोनों तरफ के करीब 5 लोग घायल हुए हैं। जिनको हमीदिया अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है। जानकारी मिली है कि एक कार्यक्रम में मोनू मटका और कुछ लोगों में विवाद हुआ था। जिसके घर कार्यक्रम में मोनू मटका गया था, उन्हीं के परिवार से विवाद हुआ था।

इसे भी पढ़ें:CM शिवराज ने अधिकारियों को किया अलर्ट, 31 जनवरी तक 1 से 12 कक्षा के स्कूल रहेंगे बंद 

वहीं खूनी वारदात के बाद अशोका गार्डन पुलिस मौके पर पहुंची। घटना स्थल पर खून से सनी लाश, सड़क पर खून के छींटे पड़े मिले। जख्मी हालत में लोग दर्द से कराहते मिले। खूनी संघर्ष में गंभीर रूप से घायल सभी लोगों को अस्पताल में भर्ती करवाया। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच में जुट गई है।

इससे पहले भोपाल के बिलखिरिया थाना इलाके में एक युवक की पिटाई का मामला सामने आया था।  गुंडागर्दी का आरोप पिता और उसके दो बेटों पर लगा था। बताया गया था कि तीनों ने मिलकर एक युवक को बेदम होने तक पीटा। तीनों युवक को बुरी तरह पीटते हुए सड़क पर घसीटते रहे। लेकिन किसी ने उनकी मदद की कोशिश नहीं की।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।