कई जिलों में सुधर रही बाढ़ की स्थिति, CM शिवराज बोले- चंबल में बढ़ते हुए जलस्तर पर हमारी पूरी नजर

Shivraj Singh Chouhan
ANI Image
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि जिला प्रशासन, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, होमगार्ड के जवान, एसपी, कलेक्टर, हमारे मंत्रीगण एवं जनप्रतिनिधि सब लगातार सतर्क हैं। मैं भिंड और मुरैना जिलों की जनता से यह अपील करना चाहता हूं कि अभी पानी बढ़ने की संभावना है, इसलिए अपने जीवन की सुरक्षा हेतु वह जिला प्रशासन का आग्रह स्वीकार करें।

भोपाल। मध्य प्रदेश में भीषण बारिश के चलते बाढ़ के हालात बने हुए हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पल-पल में स्थिति का जायजा ले रहे हैं और बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में फंसे लोगों के रेस्क्यू के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं। इसी बीच मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में अब बाढ़ की स्थिति कई जिलों में सुधर रही है, पानी नीचे उतर रहा है। लेकिन अभी भी भिंड व मुरैना जिलों में चंबल में पानी लगातार बढ़ रहा है। हम पूरी तौर से सतर्क और सावधान हैं। श्योपुर में चंबल में पानी घटना शुरू हुआ है लेकिन भिंड, मुरैना में बहुत सावधानी की जरूरत है।

इसे भी पढ़ें: 'पानी से घिरे 25 गांव, बेतवा का जलस्तर स्थिर', CM शिवराज बोले- बचाव कार्य में जुटी हैं टीमें, बोट से भी किया जा रहा रेस्क्यू 

बोट से भी किया जा रहा रेस्क्यू

उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, होमगार्ड के जवान, एसपी, कलेक्टर, हमारे मंत्रीगण एवं जनप्रतिनिधि सब लगातार सतर्क हैं। मैं भिंड और मुरैना जिलों की जनता से यह अपील करना चाहता हूं कि अभी पानी बढ़ने की संभावना है, इसलिए अपने जीवन की सुरक्षा हेतु वह जिला प्रशासन का आग्रह स्वीकार करें।

उन्होंने कहा कि दोनों जिलों में जिला प्रशासन लगातार प्रयत्न कर रहा है कि निचले स्थान जहां पानी भरने की संभावना है, वहां से जनता को निकाल कर ऊपर ले आएं। हम बोट से भी लोगों को निकाल रहे हैं, तथा हमने सेना के तीन हेलीकॉप्टरों की भी व्यवस्था की है।

इससे पहले मुख्यमंत्री ने बताया था कि भिंड, मुरैना व श्योपुर में अभी पानी थोड़ा बढ़ा है, लेकिन स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। बाकी इलाकों में बाढ़ का पानी घट रहा है। चंबल में बढ़ते हुए जल के स्तर पर भी हम पूरी तरह से नजर बनाये हुए हैं। निचले इलाकों में रहने वालों को हमने पहले ही राहत शिविरों में पहुंचा दिया है।

इसे भी पढ़ें: 'तीन आधार पर बनी है हमारी नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति', अमित शाह बोले- आज तक किसी ने नहीं किया इसका विरोध 

गौरतलब है कि राहत कार्यों के लिए तीन हेलीकॉप्टरों की तैनाती की गई है। पिछले कुछ दिनों से लगातार हो रही बारिश के चलते कई बांध लबालब भर चुके हैं। जिसकी वजह से प्रशासन को कई बांधों के गेट खोलने पड़े हैं।

अन्य न्यूज़