पूर्व कैबिनेट मंत्री अवधेश प्रसाद ने महात्मा गांधी से की अखिलेश की तुलना

पूर्व कैबिनेट मंत्री अवधेश प्रसाद ने महात्मा गांधी से की अखिलेश की तुलना

एक्सप्रेस वे पर शुरू हुए सियासत को लेकर कहा कि जिस प्रकार से महात्मा गांधी को देखने के लिए लोग दौड़ पढ़ते थे उसी तरह आज पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर अखिलेश यादव को देखने के लिए पहुंच रहे लोग। अवधेश प्रसाद ने कहा कि लाख प्रयास के बाद भी पीएम मोदी के कार्यक्रम में कुर्सियां खाली रही।

अयोध्या। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को लेकर सियासत शुरू हो गई है। इसी इसी के साथ देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को लेकर भी विवादित टिप्पणी की गई। अयोध्या के सपा नेता व पूर्व कैबिनेट मंत्री अवधेश प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की महात्मा गांधी से तुलना कर डाली।

इसे भी पढ़ें: अयोध्या में मुसलमानों ने वसीम रिजवी की मोहम्मद पुस्तक के विरोध में किया प्रदर्शन 

अवधेश प्रसाद ने कहा जिस तरह से लोग महात्मा गांधी को देखने के लिए दौड़ पड़ते थे उसी तरह से पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर अखिलेश यादव को देखने के लिए लाखों की संख्या में भीड़ उमड़ी पड़ी और पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे समाजवादी पार्टी की देन हैं।जिसका अखिलेश यादव ने शिलान्यास किया था। लेकिन उसका उद्घाटन करने के लिए व लाभ लेने के लिए प्रधानमंत्री मोदी आए। लेकिन लाख प्रयास के बाद भी पीएम मोदी के कार्यक्रम में कुर्सियां खाली रही। भीड़ इकट्ठा करने के लिए सरकारी कर्मचारियों को लगाया गया। तब भी कुर्सियां खाली रही।उसी के दूसरे दिन सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव गाजीपुर से लखनऊ के लिए विजय यात्रा निकाली। तो गाजीपुर से लखनऊ तक लाखों की भीड़ अखिलेश यादव के समर्थन में निकली।

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड त्रासदी में मारे गए लोगों का तर्पण करने साईकिल लेकर निकला युवक पहुंचा अयोध्या 

उन्होंने कहा जनता समाजवादी पार्टी की सरकार बनाने के लिए तैयार हैं।जब आधी रात को अखिलेश यादव की यात्रा अयोध्या पहुंची कार्यकर्ताओं का हुजूम देखकर भाजपा डर गई। उन्हें लगने लगा कि अब हमारा सफाया होने से कोई नहीं रोक सकता और अयोध्या की पांचों सीटें समाजवादी पार्टी की ही रहेगी।वही पूर्व मंत्री अवधेश प्रसाद ने प्रदेश की योगी सरकार को नाकाम बताया कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में किसान गाय और बैलों से परेशान हैं। उनकी फसल का नुकसान हो रहा है जिससे किसान आत्महत्या करने पर मजबूर है।आए दिन बैल के मारने से किसान और आम जनमानस की जान जा रही है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...