पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, जेईई और नीट परीक्षाओं को रद्द करने की माँग

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, जेईई और नीट परीक्षाओं को रद्द करने की माँग

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से उन्होंने निवेदन किया है कि मध्य प्रदेश सरकार इन परीक्षाओं को रद्द करने की माँग करते हुए केंद्र सरकार को पत्र लिखें। क्योंकि कोरोना संक्रमण जिस तरह प्रदेश में लगातार बढ़ रहा है इन परिस्थियों में यह परीक्षाएं आयोजित करवाना युवाओं और विद्यार्थीयों की जान को जोखिम में डालने जैसा होगा I

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया अध्यक्ष और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है। उन्होंने कोरोना काल के दौरान जेईई और नीट परीक्षाओं के आयोजन के दौरान कोरोना संक्रमण फैलने को लेकर मुख्यमंत्री को चेताया है। पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने अपने पत्र में मुख्यमंत्री ने अनुरोध किया कि वही इन विषम परिस्थितियों में आयोजित होने जा रही ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (Joint Entrance Examination) यानी जेईई मेन (JEE Main) और नेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट (National Eligibility Entrance Test ) यानि नीट एग्जाम (NEET Exam) को राज्य की परिस्थियों के अनुसार आयोजित न करवाये। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से उन्होंने निवेदन किया है कि मध्य प्रदेश सरकार इन परीक्षाओं को रद्द करने की माँग करते हुए केंद्र सरकार को पत्र लिखें। क्योंकि कोरोना संक्रमण जिस तरह प्रदेश में लगातार बढ़ रहा है इन परिस्थियों में यह परीक्षाएं आयोजित करवाना युवाओं और विद्यार्थीयों की जान को जोखिम में डालने जैसा होगा I

 

इसे भी पढ़ें: आरएसएस मुख्यालय गए, इधर रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर चले जाते, थोड़ा अपराध कम हो जाता- सज्जन सिंह वर्मा

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को लिखे पत्र में कोविड-19 के खतरों से अवगत करवाते हुए इस महामारी से युवाओं एवं विद्यार्थीयों की रक्षा हेतु जेईई और नीट की परीक्षाओं को रद्द करने की बात भी कही है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा कि कोविड-19 के चलते विश्व ही नहीं हमारा देश और प्रदेश इस महामारी से जूझ रहा है। यह किसी से छुपा नहीं है कि मार्च माह में आपने प्रदेश की सत्ता सम्हाली है, उस समय कोरोना संक्रमण की शुरूआत हो चुकी थी। जिसे नियंत्रण करने की पूरी जिम्मेदारी प्रदेश की सत्ताधारी पार्टी और मुख्यमंत्री सहित पूरी सरकार की बनती थी। लेकिन कोरोना पर काबू पाने की तमाम कोशिशों के बावजूद भी इस पर आज तक नियंत्रण नहीं पाया जा सका है। आप स्वयं भी इससे अछूते नहीं रहे और सिर्फ आप ही नहीं बल्कि राज्य सरकार के कई मंत्रिगण और विधायकों सहित राजनीतिक पार्टीयों के कार्यकर्ता और नेता भी विगत दिनों कोरोना की चपेट में आए है I देश में कोरोना का यह प्रकोप दिन पर दिन लगातार बढ़ता जा रहा है। ऐसे वक्त में आपके नेतृत्व में ग्वालियर-चंबल संभाग में तीन दिवसीय भाजपा का सदस्यता अभियान चलाया गया। जिसमें कोविड-19 के लिए जारी की गई गाइड लाइन का खुलकर मखौल उड़ाया गया और केंद्र सरकार तथा सुप्रीम कोर्ट के नियमों का जमकर उलंघन किया गया। जिसका परिणाम यह हुआ कि कार्यक्रम में उपस्थित 36 से ज्यादा नेता और कार्यकर्ता कोरोना संक्रमित पाए गए है I

इसे भी पढ़ें: बीजेपी अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने किया सवाल कमलनाथ बताएं, चंबल एक्सप्रेस वे को ठंडे बंस्ते में क्यों डाला ?

पूर्व मंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी में कार्यकारी अध्यक्ष और मीडिया अध्यक्ष के रूप में काम कर रहे जीतू पटवारी ने उनकी इस माँग को राजनीतिक दृष्टि से न लेने की बात भी अपने पत्र में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को लिखी है। उन्होंने मुख्यमंत्री से अनुरोध करते हुए लिखा कि जेईई और नीट की परीक्षाओं को रद्द कर कोरोना संक्रमण से युवाओं और विद्यार्थीयों के स्वास्थ्य से होने वाले खिलवाड़ से उन्हें बचाया जा सकता है। इसे राजनीतिक दृष्टि से परे प्रदेश की जनता के हित में किए गए निवेदन के रूप में देखकर इस पर निर्णय लें।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।