बीजेपी अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने किया सवाल कमलनाथ बताएं, चंबल एक्सप्रेस वे को ठंडे बस्ते में क्यों डाला ?

बीजेपी अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने किया सवाल कमलनाथ बताएं, चंबल एक्सप्रेस वे को ठंडे बस्ते में क्यों डाला ?

उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी जब मुख्यमंत्री थे तब उन्हीं के मंत्री गोविन्द सिंह ने रेत के अवैध उत्खनन का आरोप लगाते हुए पैसा नीचे से ऊपर तक जाने की बात कही थी। कमलनाथ बताएं कि इस ‘उपर तक में’ क्या सोनिया गांधी और 10 जनपथ भी शामिल थे ?

भोपाल। मध्य प्रदेश बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से सवाल किया है कि वह बताएं कि चंबल एक्सप्रेस वे को ठंडे बंस्ते में क्यों डाला ? विष्णुदत्त शर्मा ने कहा है कि आज कांग्रेस के नेता ग्वालियर-चंबल अंचल में जाकर भाजपा से सवाल कर रहे हैं,  लेकिन उन्हें सवाल पूछने के बजाय जनता को यह बताना चाहिए कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मध्य प्रदेश को चंबल एक्सप्रेस वे की जो सौगात दी थी,  कमलनाथ ने उसे ठंडे बस्ते में क्यों डाल दिया था ?  प्रदेश में भाजपा सरकार आते ही चंबल एक्सप्रेस वे को प्रोग्रेस वे के रूप में आगे बढ़ाने का काम हुआ और अब उसे केंद्र सरकार की मंजूरी भी मिल गई है। यह बात बुधवार को प्रदेश कार्यालय में मीडिया से चर्चा करते हुए प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने कही। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी जब मुख्यमंत्री थे तब उन्हीं के मंत्री गोविन्द सिंह ने रेत के अवैध उत्खनन का आरोप लगाते हुए पैसा नीचे से ऊपर तक जाने की बात कही थी। कमलनाथ बताएं कि इस ‘उपर तक में’  क्या सोनिया गांधी और 10 जनपथ भी शामिल थे ?

 

इसे भी पढ़ें: पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कहा मध्य प्रदेश की जनता नहीं भरेगी बिजली का बिल

 भाजपा के सदस्यता अभियान से कांग्रेस में खलबली

सदस्यता अभियान को लेकर कांग्रेस नेताओं द्वारा किए जा रहे सवालों को लेकर प्रदेश अध्यक्ष शर्मा ने कहा कि ग्वालियर में हुए भाजपा के सदस्यता अभियान की धमक दिल्ली तक पहुंच गई है, जिसको लेकर कांग्रेस के राष्ट्रीय नेताओं और स्वयं सोनिया गांधी जी को विचार करना पड़ रहा है। कांग्रेस को अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए मंथन करना पड़ रहा है और पूरी कांग्रेस में खलबली है। शर्मा ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता आधरित पार्टी है, यहां एक बूथ का अध्यक्ष राष्ट्रीय अध्यक्ष तक बन सकता है, यहां गरीब मॉ के बेटे नरेन्द्र मोदी जी प्रधानमंत्री, गरीब किसान के बेटे शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री और सामाजिक चेतना के लिए संघर्ष करने वाली उमा भारती जी मुख्यमंत्री बन सकती हैं। यहां कांग्रेस की तरह एक परिवार विशेष का कब्जा नहीं होता। 

इसे भी पढ़ें: आरएसएस मुख्यालय गए, इधर रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर चले जाते, थोड़ा अपराध कम हो जाता- सज्जन सिंह वर्मा

ग्वालियर-चंबल अंचल में कांग्रेस के पास कोई नेता नहीं बचा

विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि कांग्रेस के पास अब ग्वालियर-चंबल अंचल में कोई नेता नहीं बचा है। यही कारण है कि कांग्रेस को दूसरे अंचल के तीन पूर्व मंत्रियों को ग्वालियर भेजना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि सदस्यता ग्रहण समारोह के दौरान 76,361 कांग्रेस कार्यकर्ता भाजपा में शामिल हुए, जिससे कमलनाथ और दिग्विजय सिंह के पैरों तले जमीन खिसक गई है। कांग्रेस के नेता भयभीत हैं और इसलिए व्यर्थ के सवाल उछाल रहे हैं। शर्मा ने कहा कि प्रदेश की जनता कांग्रेस के कमलनाथ और दिग्विजय सिंह को पहचान चुकी है, परख चुकी है और अब वह इनके छलावे में नहीं आने वाली।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।