पूर्व मंत्री लाल सिंह को किश्तवाड़ जाने के दौरान हिरासत में लिया गया

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 10 2019 2:58PM
पूर्व मंत्री लाल सिंह को किश्तवाड़ जाने के दौरान हिरासत में लिया गया
Image Source: Google

अधिकारियों ने बताया कि पूर्व मंत्री को डोडा जिले के अस्सर इलाके में हिरासत में लिया गया।

भद्रवाह/जम्मू। डोगरा स्वाभिमान संगठन के प्रमुख और जम्मू तथा उधमपुर लोकसभा सीटों पर इस संगठन के उम्मीदवार चौधरी लाल सिंह को बुधवार को किश्तवाड़ जाने के दौरान समर्थकों के साथ हिरासत में ले लिया गया। अधिकारियों ने बताया कि पूर्व मंत्री को डोडा जिले के अस्सर इलाके में हिरासत में लिया गया। दो बार मंत्री रह चुके और दो बार के सांसद सिंह जम्मू और उधमपुर लोकसभा सीटों से डीएसएस उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने रसाना बलात्कार एवं हत्या मामले में मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद पिछले साल संगठन शुरू किया था। सिंह और उनके साथी चंद्र प्रकाश गंगा ने कठुआ जिले में आठ वर्षीय लड़की से सामूहिक बलात्कार और हत्या मामले के आरोपियों के कथित समर्थन में आयोजित रैली में भाग लेने के बाद गत वर्ष 13 अप्रैल को इस्तीफा दे दिया था।

इसे भी पढ़ें: सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में जम्मू कश्मीर में दो आतंकवादी मारे गए

अधिकारियों ने कहा कि सिंह रैली करने के लिये सड़क को अवरुद्ध कर रहे थे, जो आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के समान है। सिंह ने कहा कि वह आरएसएस नेता चंद्रप्रकाश शर्मा के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने के लिये किश्तवाड़ जा रहे थे। शर्मा की मंगलवार को आतंकवादियों ने किश्तवाड़ में गोली मारकर हत्या कर दी थी। सिंह ने डोडा से पीटीआई-भाषा को बताया कि मुझे सुबह सात बजे गिरफ्तार किया गया है और पिछले छह घंटे से बिना भोजन के यहां रखा गया है। क्या यह लोकतंत्र है कि आप एक उम्मीदवार को हिरासत में ले रहे हैं और भाजपा और आरएसएस नेताओं को किश्तवाड़ में जमा होने की अनुमति दे रहे हैं। हालांकि, अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि सिंह को सिर्फ हिरासत में लिया गया है, उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया है।

इसे भी पढ़ें: असंतुष्ट भाजपा के वरिष्ठ नेता ने जम्मू कश्मीर में पार्टी छोड़ी



सिंह ने आरोप लगाया कि पाबंदी सिर्फ उनके लिये है और भाजपा उम्मीदवार तथा उनके नेताओं के लिये नहीं है। भाजपा नेताओं को दिवंगत नेता के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने के लिये किश्तवाड़ जाने की अनुमति दी गई है। उन्होंने कहा कि मैं एक उम्मीदवार हूं और मुझे नेता के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने का अधिकार है। मुझे जानबूझकर रोका जा रहा है। डोडा के उपायुक्त डी सागर दत्तात्रेय ने कहा कि सिंह को गिरफ्तार नहीं किया गया है और उन्हें कर्फ्यू के मद्देनजर किश्तवाड़ जाने की अनुमति नहीं दी गई है। किश्तवाड़ जिले में आरएसएस के वरिष्ठ पदाधिकारी चंद्रकांत शर्मा और उनके निजी पीएसओ की हत्या के बाद बुधवार को लगातार दूसरे दिन कर्फ्यू लागू है। पुलिस ने हत्यारों का पता लगाने के लिये तलाश तेज कर दी है। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video