लद्दाख से दिल्ली मां रोज भेजती है बच्चे के लिए अपना दूध, जानिए क्या है पूरा मामला?

leh to delhi mom breast milk
निधि अविनाश । Jul 21, 2020 6:13PM
हर रोज मां का दूध लेह से किसी भी यात्री के जरिए दूध दिल्ली भिजवाया गया और इसमें विस्तारा एयरलाइंस ने यह सुविधा फ्री उपल्बध कराई। नवजात के पिता ने बताया कि कि मेरी पत्नी हर रोज शाम 6 बजे से सुबह तक 3 से 4 बोटल दूध कलेक्ट करती है।

कहते है कि मां कि जब डिलिवरी होती है उसके तुरंत बाद ही नवजात को मां का दूध पिलाया जाता है ताकि बच्चा हष्ट-पुष्ट और सेहतमंद रहे। क्योंकि मां के दूध में काफी प्रोटिन होता है और वो नवजात को पिलाना काफी जरूरी होता है। ऐसा ही कुछ एक मां अपने बच्चे की सेहत को ध्यान में रखते हुए हर रोज अपने नवजात के लिए सैकड़ों किलोमीटर दूर से अपना दूध भेजती है ताकि इसका बच्चा हर बीमारी से लड़ सके। यह मां 20 जून से हर रोज अपना दूध लेह से दिल्ली भिजवाती है। यह दूध दिल्ली के शालीमार बाग के मैक्स अस्पताल में आता है और नवजात को पिलाया जाता है। मैक्स में एडमिट इस बच्चे से दूर मां आखिर क्यों अपने बच्चें के पास नहीं है? आखिर ऐसी क्या वजह है कि मां का दूध हवाई जहाज के जरिए लेह से दिल्ली पहुंचाया जाता है और बच्चे को पिलाया जाता है। आइये जानते है कि क्या है इसकी असली वजह!

इसे भी पढ़ें: इन वजहों से चौंकाता है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लद्दाख दौरा

लेह की रहनेवाली जिकमेट वांगडू के घर में 16 जून को एक बच्चे ने जन्म लिया। जिकमेट वांगडू  की पत्नी डोरेज पाल्मो की सिजेरियन डिलिवरी कराई गई जिसके बाद यह पता चला कि जन्म के बाद ही नवजात का फूडपाइप और विंड पाइप एकसाथ जुड़ा हुआ है और उसकी तुरंत सर्जरी करानी जरूरी है। बता दें कि जिकमेट वांगडू मैसूर में टीचर हैं और मां सर्जरी के कारण बच्चे को लेह से दिल्ली नहीं लेकर आ सकती है, इसलिए बच्चे के मामा ने मदद का हाथ आगे बढ़ाते हुए अपनी बहन की मदद की और नवजात को दिल्ली में शालीमार बाग के मैक्स अस्पताल में लेकर पहुंचा। 

बच्चे की हुई सर्जरी सफल

अस्पताल में डॉक्टर हर्षवर्धन की अगुवाई में 19 जून को बच्चे की सर्जरी हुई और डॉ ने यह साफ कहा था कि सर्जरी के बाद नवजात के लिए मां का दूध बहुत जरूरी है। लेकिन मां के लेह में होने के कारण अब ये समझ नहीं आया कि बच्चे को मां का दूध कैसे पिलाया जाएं? पिता ने मां का दूध बच्चे तक पहुंचाने के लिए जो फैसला लिया वो काफी काबले तारीफ रहा। उन्होंने फैसला किया कि मां का दूध हवाई जहाज के जरिए दिल्ली लाया जाएगा, लेकिन सवाल यह था कि हर रोज हवाई जहाज के जरिए भला मां का दूध बच्चे तक कैसे पहुंचेगा? इसका भी उपाय निकालते हुआ पिता ने अपने कुछ दोस्तों से मदद ली जोकि लेह एयरपोर्ट में काम करते हैं। बता दें कि हर रोज मां का दूध लेह से किसी भी यात्री के जरिए दूध दिल्ली भिजवाया गया और इसमें विस्तारा एयरलाइंस ने यह सुविधा फ्री उपल्बध कराई। नवजात के पिता ने बताया कि लेह से दिल्ली मां का दूध कलेक्ट करने या मैं या मामा चले जाते थे और फिर अस्पताल तक पहुंचाते थे। जिकमेट ने आगे कहां कि मेरी पत्नी हर रोज शाम 6 बजे से सुबह तक 3 से 4 बोटल दूध कलेक्ट करती है , यह आसान नहीं है लेकिन मेरी पत्नी और मेरे करीबी के बिना कुछ भी संभव नहीं था। 

क्या कहते हैं डॉक्टर

डॉक्टर के मुताबिक दिल्ली में ब्रेस्ट मिल्क बैंक है लेकिन मां ने अपना ही दूध पिलाने का फैसला किया और पिता ने इसे अरेंज कराने में अपनी कोई कसर नहीं छोड़ी। जिस तरीके से पैरेंट्स ने ये काम किया है, उसकी जितनी सराहना की जाए उतना कम है। बता दें कि मां के दूध से बच्चे की रिकवरी जल्द हो रही है और वह अभी काफी बेहतर दिख रही है और जल्द ही अस्पताल से नवजात को डिस्चार्ज भी मिल जाएगा।  

अन्य न्यूज़