गडकरी ने चुनावी हलफनामे में 25.12 करोड़ रुपये की संपत्ति की घोषणा की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 26, 2019   13:18
गडकरी ने चुनावी हलफनामे में 25.12 करोड़ रुपये की संपत्ति की घोषणा की

संयुक्त हिंदू परिवार (एचयूएफ) के नाम पर कुल 66,07,924 रुपये की संपत्ति गडकरी के पास है। इसी तरह, गडकरी के पास 6,95,98,325 रुपये और उनकी पत्नी के पास 6,48,60,325 रुपये की अचल संपत्ति है।

नागपुर।  केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने नागपुर संसदीय सीट के लिए दाखिल किए नामांकन पत्र के साथ दिए हलफनामे में अपनी 25.12 करोड़ रुपये की चल एवं अचल संपत्ति की घोषणा की है। गडकरी ने सोमवार को नागपुर लोकसभा सीट के लिए अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। इस सीट पर मतदान 11 अप्रैल को होगा। उनके टैक्स रिटर्न फॉर्म के अनुसार, साल 2013-14 में उनकी कुल आय 2,66,390 रुपये और 2017-18 में 6,40,700 रुपये रही। हलफनामे के अनुसार, उनके पास 69,38,691 रुपये की चल संपत्ति जबकि उनकी पत्नी के पास 91,99,160 रुपये की चल संपत्ति है।

संयुक्त हिंदू परिवार (एचयूएफ) के नाम पर कुल 66,07,924 रुपये की संपत्ति गडकरी के पास है। इसी तरह, गडकरी के पास 6,95,98,325 रुपये और उनकी पत्नी के पास 6,48,60,325 रुपये की अचल संपत्ति है। एचयूएफ के नाम पर उनकी कुल 9,40,31,224 रुपये की संपत्ति है। गडकरी ने नागपुर के धपेवाडा में 29 एकड़ की कृषि भूमि अपने पास होने की घोषणा की है जिसमें से 15 एकड़ उनकी पत्नी के नाम पर और 14.60 एकड़ एचयूएफ के नाम पर पंजीकृत है। गडकरी ने महाल (नागपुर) में एक पैतृक मकान और वरली (मुंबई) में एक एमएलए सोसायटी में एक फ्लैट होने की घोषणा की है।

इसे भी पढ़ें: PM मोदी की बयोपिक को क्यों भेजा गया EC का नोटिस, क्या फिल्म BJP का सपोर्ट कर रही है?

केंद्रीय मंत्री ने अपने हलफनामे में बताया कि उन्होंने बचत योजना, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड और शेयरों में 3,55,510 रुपये निवेश किए हैं। हलफनामे के अनुसार, उनके बैंक खाते में 8,99,111 रुपये हैं। उनकी पत्नी के बैंक खाते में 11,07,909 रुपये हैं। वरिष्ठ भाजपा नेता पर बैंक का 1,57,21,753 रुपये का कर्ज भी है। गडकरी ने छह कारों की भी घोषणा की है जिनमें से चार उनकी पत्नी के नाम पर हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।