मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद के नए डीएम बनाए गए विजय किरण आनंद

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद के नए डीएम बनाए गए विजय किरण आनंद
प्रतिरूप फोटो

विजय किरण की पहली पोस्टिंग बागपत में एसडीएम के पद पर हुई थी। इसके बाद वे सीडीओ बाराबंकी बनें। बतौर डीएम उन्होंने शाहजहांपुर और वाराणसी में कार्यकुशलता पूर्वक काम किया।

गोरखपुर। विजय किरण आनंद की गिनती 2009 बैच के तेज तर्रार आईएएस अफसरों में होती है। वे मूल रुप से बेंगलुरू के रहने वाले है। लंबे समय से गोरखपुर के डीएम रहे के विजयेंद्र पांडियन का रविवार की देर रात यहां से ट्रांसफर हो गया। उनकी जगह 2009 बैच के आईएएस अधिकारी विजय किरण आनंद को गोरखपुर का नया डीएम बनाया गया है। इससे पहले वे महानिदेशक स्कूल शिक्षा एवं राज्य परिजयोजना निदेशक के पद पर तैनात थे। जबकि तमिलनाडु कैडर से प्रतिनियुक्ति पर आए गोरखपुर के डीएम के विजयेंद्र पांडियन की समय सीमा पूरी होने पर उन्हें उनके मूल कैडर में वापस भेज दिया गया। मंगलवार को नए डीएम विजय किरण आनंद ने अपना कार्यभार संभाल लिया। 

इसे भी पढ़ें: सपा ने फूलन देवी की मनाई पुण्यतिथि, नगीना प्रसाद साहनी बोले- भाजपा सरकार ने पिछड़ों का किया है अपमान 

आपको बता दें विजय किरण की पहली पोस्टिंग बागपत में एसडीएम के पद पर हुई थी। इसके बाद वे सीडीओ बाराबंकी बनें। बतौर डीएम उन्होंने शाहजहांपुर और वाराणसी में कार्यकुशलता पूर्वक काम किया। इसके बाद वे उत्तर प्रदेश महानिदेशक स्कूल शिक्षा एवं राज्य परिजयोजना निदेशक के पद पर तैनात रहे। यहां से सीएम योगी ने उन्हें अपने गृह जनपद गोरखपुर का डीएम बनाने की स्वीकृति दी है। विजय किरण बतौर डीएम शाहजहांपुर में खुले पर शौच के खिलाफ अभियान चलाया था। वह जहां भी रहते हैं, वहां अतिक्रमण करने वालों पर उनकी पैनी निगाह होती है। गिनती अनुशासन प्रिय और सख्त मिजाज अफसरों में होती है। जनता की समस्याओं के निपटारे में लापरवाही के खिलाफ वे हमेशा सख्त देखे गए हैं। 

इसे भी पढ़ें: गोरखपुर विकास प्राधिकरण बोर्ड के सदस्य पद पर दुर्गेश बजाज हुए नामित 

वहीं, शाहजहांपुर में महज 12 दिन के कार्यकाल के दौरान विजय किरण मानवता की मिसाल पेश कर देश भर में चर्चा में आ गए थे। वे एक सरकारी हॉस्पिटल में महज इंस्पेक्शन के लिए पहुंचे थे। हॉस्पिटल में 23 साल की लड़की को दर्द से तड़पता देख उनका मन भावुक हो उठा और उन्होंने डॉक्टरों से बात की तो डॉक्टर पल्ला झाड़ चुके थे। इसके बाद उन्होंने तुरंत खुद ब्लड डोनेट कर उसकी जान बचा ली। खून पाने वाली लड़की रीना ने डीएम को अपना भगवान बताया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।