महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में ही राज्यपाल और ईडी सरकार को निशाना बना रहे हैं: संजय राउत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 24, 2022   19:12
महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में ही राज्यपाल और ईडी सरकार को निशाना बना रहे हैं: संजय राउत

शिवसेना के सांसद संजय राउत ने बृहस्पतिवार को कहा कि केवल महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में ही राज्यपाल तथा प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) सरकारों को निशाना बना रहे हैं। राउत ने यहां पत्रकारों से बात करते हुए कहा, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में ही राज्यपाल राज्य सरकार को निशाना बना रहे हैं।

नागपुर। शिवसेना के सांसद संजय राउत ने बृहस्पतिवार को कहा कि केवल महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में ही राज्यपाल तथा प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) सरकारों को निशाना बना रहे हैं। राउत ने यहां पत्रकारों से बात करते हुए कहा, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में ही राज्यपाल राज्य सरकार को निशाना बना रहे हैं। भाजपा शासित राज्यों में भी राज्यपाल और ईडी के कार्यालय हैं, लेकिन वे तो सरकारों को निशाना नहीं बना रहे।

इसे भी पढ़ें: शिअद ने पंजाब विधानसभा चुनाव के परिणाम पर मंथन करने के लिये समिति गठित की

इस सप्ताह की शुरुआत में प्रवर्तन निदेशालय ने धनशोधन मामले की जांच के सिलसिले में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साले श्रीधर पाटनकर के स्वामित्व वाली कंपनी की 6.45 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क कर ली थी। शिवसेना नीत महाराष्ट्र सरकार और राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के बीच भी कई मौकों पर टकराव देखा गया है।

इसे भी पढ़ें: मिरर सेल्फी में अभिनेत्री दिशा पाटनी ने फ्लॉन्ट किया परफेक्ट फिगर, देखने वालों का हुआ बुरा हाल

पश्चिम बंगाल में भी तृणमूल कांग्रेस सरकार और राज्यपाल के बीच संबंध काफी तल्ख रहे हैं। राउत ने कहा कि महाराष्ट्र के गृह मंत्रालय की एक महान परंपरा रही है कि यह केंद्रीय एजेंसियों की तरह कभी भी किसी के खिलाफ प्रतिशोधपूर्वक कार्रवाई नहीं करता।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।