शिअद ने पंजाब विधानसभा चुनाव के परिणाम पर मंथन करने के लिये समिति गठित की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 24, 2022   19:05
शिअद ने पंजाब विधानसभा चुनाव के परिणाम पर मंथन करने के लिये समिति गठित की

शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने हाल में हुए पंजाब विधानसभा चुनाव के परिणाम पर आत्ममंथन करने और पार्टी को मजबूत करने को लेकर जमीनी हकीकत से रूबरू होने के लिये बृहस्पतिवार को 12 सदस्यीय समिति का गठन किया।

चंडीगढ़। शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने हाल में हुए पंजाब विधानसभा चुनाव के परिणाम पर आत्ममंथन करने और पार्टी को मजबूत करने को लेकर जमीनी हकीकत से रूबरू होने के लिये बृहस्पतिवार को 12 सदस्यीय समिति का गठन किया। हाल के चुनाव में शिअद को केवल तीन सीटों पर जीत मिली और यह उसका अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन रहा।

इसे भी पढ़ें: 'The Kashmir Files' की तरह भारत की इन 10 बड़ी घटनाएं पर भी बननी चाहिए इतिहास को आईना दिखाने वाली फिल्में

आम आदमी पार्टी (आप) पहली बार राज्य की 117 विधानसभा सीटों में से 92 पर जीत हासिल कर सत्ता में आई है। पार्टी द्वारा जारी एक बयान के अनुसार समिति शिअद के मूल सिद्धांतों की रक्षा के सिलसिले में व्यापक बदलावों की सिफारिश करने के अलावा संगठनात्मक स्तर पर आवश्यक बदलावों के बारे में सुझाव देगी।

इसे भी पढ़ें: क्रॉप टॉप पहनकर अभिनेत्री नेहा शर्मा ने दिए कातिलाना पोज, तस्वीरें देखकर फैंस के उड़े होश

बयान में कहा गया है कि पार्टी में विभिन्न स्तरों से फीडबैक लेने के बाद समिति का गठन किया गया है। समिति में पार्टी की कोर कमेटी, विधायक, उम्मीदवार, जिला अध्यक्ष, युवा अकाली दल (वाईएडी) और भारतीय छात्र संगठन (एसओई) के सदस्य शामिल हैं। समिति में वरिष्ठ नेता बलविंदर सिंह भुंदर, चरणजीत सिंह अटवाल, बीबी जागीर कौर, प्रेम सिंह चंदूमाजरा, महेशिंदर सिंह ग्रेवाल, दलजीत सिंह चीमा, सिकंदर सिंह मलूका, हीरा सिंह गाबरिया, गुलजार सिंह रानिके, शरणजीत सिंह ढिल्लों, जनमेजा सिंह सेखों और सुरजीत सिंह राखड़ा शामिल हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।