हवा हुई साफ तो सहारनपुर से दिखने लगीं हिमालय की चोटियां

हवा हुई साफ तो सहारनपुर से दिखने लगीं हिमालय की चोटियां

पहाड़ियां करीब 200 किलोमीटर दूर हैं और पहले प्रदूषण की वजह से ये पहाड़िया कभी-कभार बारिश होने के बाद धुंधली दिखाई देती थी, लेकिन जब से ये लॉकडाउन लगा है तब से प्रदूषण में भी कमी आई है और पहली बार अपर हिमालयन रेंज की पर्वत शृंखलाएं सहारनपुर से इतनी साफ दिखाई दे रही हैं।

नई दिल्ली। मानव जाति पर कहर बरपा रहा खतरनाक कोरोना वायरस प्रकृति को काफी फायदा पहुंचा रहा है। जी हां, तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस की वजह से कई देशों में लॉकडाउन लागू किया गया जिसकी वजह से न ही सड़को पर गाड़िया दौड़ रही है और न ही लोगों का आना- जाना हो रहा है। कोरोना के इस लॉकडाउन से पहली बार प्रकृति में एक साथ इतने सारे बदलाव देखने को मिल रहे है। वाहन- फैक्ट्री सब बंद होने की वजह से आसमान काफी साफ हो गया है। साफ हवा और धुंआ मुक्त आसमान के बीच प्रकृति के नजारे और भी खुबसुरत दिखाई दे रहे है। आपको जानकर हैरानी होगी की इस कोरोना लॉकडाउन से सहारनपुर से अपर हिमालयन रेंज की पहाड़ियां अब आसानी से दिखाई देने लगी है। 

इसे भी पढ़ें: SC का कोविड-19 के उपचार के दिशानिर्देशों में बदलाव का निर्देश देने से इंकार

बता दे कि इस खुबसुरत पल को सहारनपुर के इनकम टैक्स अधिकारी दुष्यंत कुमार सिंह ने अपने कैमरे में कैद किया है। उन्होंने बताया कि रविवार को जब बारिश खत्म होने के बाद उन्होंने ये नजारा देखा तो वह काफी चौंक गए और उन्होंने इस पल को अपने कैमरे में कैद करने का सोचा। उन्होंने बताया कि बारिश खत्म होने के बाद कैसे चकराता से ऊपर की और गंगोत्री-यमुनोत्री पर्वत शृंखला की बंदरपूंछ आदि की पहाड़ियां साफ दिखाई दे रही थीं। वहीं  दुष्यंत की पत्नी बताती है कि ये यह पहाड़ियां करीब 200 किलोमीटर दूर हैं और पहले प्रदूषण की वजह से ये पहाड़िया कभी-कभार बारिश होने के बाद धुंधली दिखाई देती थी, लेकिन जब से ये लॉकडाउन लगा है तब से प्रदूषण में भी कमी आई है और पहली बार अपर हिमालयन रेंज की पर्वत शृंखलाएं सहारनपुर से इतनी साफ दिखाई दे रही हैं।

हवाओं को साफ और प्रदूषण कम करने में सरकारी मशीनरी नहीं बल्कि ये कोरोना लॉकडाउन कारागर साबित हुई है। बता दे कि जब से लॉकडाउन लागू हुआ तब से ही सभी वाहन फैक्ट्री बंद हो चुके है। यहां तक ट्रेन का परिचालन भी 3 मई तक बंद कर दिया गया है। फेक्ट्री से निकलते हानिकारक धुओं से प्रदुषित कर रहे आसमान अब साफ नजर आने लगे है। लोगों ने पहली बार लॉकडाउन के बीच प्रकृति का ऐसा नजारा इतनी नजदीकी से देखा है। 

इसे भी पढ़ें: पालघर और बुलंदशहर की वारदातों की तुलना उचित नहीं: विश्व हिन्दू परिषद

प्रदूषण विभाग के मुताबिक हवाओं की गुणवत्ता में करीब 35% तक सुधार आया है। वहीं एयर क्वालिटि इंडेक्स की बात करे तो एक्यूआई लेवल 70 पर पहुंच गया है जो दिवाली के वक्त करीब 300 के पार पहुंच गया था। सहायक वैज्ञानिक अधिकारी गीतेश चंद्र ने बताया कि लॉकडाउन में वाहन फैक्ट्री के बंद होने के कारण आसमान काफी साफ हो गया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।