गृह मंत्री J&K आए, नजराने में हुकूमत का यकीन भी लाए, आम लोगों को दिया अपना नंबर, कहा- जब भी जरूरी हो फोन कर लेना

गृह मंत्री J&K आए, नजराने में हुकूमत का यकीन भी लाए, आम लोगों को दिया अपना नंबर, कहा- जब भी जरूरी हो फोन कर लेना

गृह मंत्री ने मकवाल सीमा के अग्रिम इलाकों का दौरा किया और एक स्थानीय निवासी के साथ अपना खुद का फोन नंबर साझा किया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जम्मू में मकवाल सीमा के एक स्थानीय निवासी का संपर्क नंबर लेते हैं, अपना नंबर साझा करते हैं।

पीएम मोदी ने एक नारा दिया था सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास। जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को खत्म किया था तब भी कहा था कि इस फैसले से जम्मू कश्मीर के लोगों का साथ भी है विकास भी है और विश्वास भी है। अब केंद्र सरकार के गृह मंत्री इसे परखने के लिए जम्मू कश्मीर पहुंचे। वो देखने आए थे कि 370 के खात्मे के बाद  कितनी बदली है रूत, कितनी बदली है रवानी और कितनी बदली है जिंदगानी। मोदी सरकार के डिप्टी घाटी आए, साथ में नजराने में हुकूमत का यकीन भी लाए। भरोसा कीजिए 370 का खात्मा आपके हक में है। ये बताने कf अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद हालात सामन्य हो रहे हैं, आप महसूस कीजिए... 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर: पुलवामा हमले में शहीद हुए CRPF जवानों को श्रद्धांजलि देंगे अमित शाह

सीमा के अंतिम पोस्ट पर पहुंच सभी को किया हैरान

 केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने उस समय सभी को हैरान कर दिया जब वो अचानक जम्मू के आरएस पुरा सेक्टर में सीमा के अंतिम पोस्ट पर पहुंच गए। वहां पर अमित शाह ने बीएसएफ के जवानों की हौसला अफजाई की और पाकिस्तान की आंखों में आखें डालकर उन्हें चुनौती देते हुए कहा कि भारत जो बोलता है  वो करता है। जो नहीं बोलता वो डिफेनेटली करता है। 

स्थानीय निवासी को दिया अपना नंबर 

वहीं गृह मंत्री ने मकवाल सीमा के अग्रिम इलाकों का दौरा किया और एक स्थानीय निवासी के साथ अपना खुद का फोन नंबर साझा किया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जम्मू में मकवाल सीमा के एक स्थानीय निवासी का संपर्क नंबर लेते हैं, अपना नंबर साझा करते हैं और उन्हें बताते हैं कि वह व्यक्ति जब भी जरूरत हो, उनसे संपर्क कर सकता है। मकवाल में उन्होंने जवानों से मिलकर उनसे बातचीत की और उनके कामों की सराहना करते हुए कहा कि उन्हें बिना किसी चिंता के देश की रक्षा करनी चाहिए क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार उनके परिवारों की देखभाल करेगी। इसके बाद उन्होंने एक स्थानीय व्यक्ति को अपना नंबर भी दिया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।