त्रिभाषा फार्मूले का सम्मान करें गृह मंत्री, विवाद नहीं पैदा करें: कांग्रेस

home-minister-should-respect-the-trilingual-formula-do-not-create-controversy-says-congress
दरअसल हिंदी दिवस पर अमित शाह ने कहा कि भारत विभिन्न भाषाओं का देश है और हर भाषा का अपना महत्व है लेकिन एक आम भाषा का होना आवश्यक है जो देश की पहचान बने।

नयी दिल्ली। हिंदी के संदर्भ में गृह मंत्री अमित शाह के बयान को लेकर कांग्रेस ने शनिवार को कहा कि संविधान ने जिन संवेदनशील मुद्दों का समाधान कर दिया था उनको लेकर नए सिरे से विवाद नहीं पैदा करना चाहिए और त्रिभाषा फार्मूले का सम्मान करना चाहिए। पार्टी के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने संवाददाताओं से कहा, हिंदी राज भाषा है और इस पर कोई भी विवाद नहीं है, लेकिन तीन भाषाओं का फार्मूला देश ने आजादी के बाद तय किया और हर सरकार ने उसका सम्मान किया है। गृहमंत्री को, प्रधानमंत्री को, भाजपा सरकार को भी उसका सम्मान करना चाहिए।  

इसे भी पढ़ें: हिंदी दिवस पर बोले अमित शाह- जो देश अपनी भाषा छोड़ता है वह अपना अस्तित्व भी खो देता है

उन्होंने कहा, भारत की विविधता को भी स्मरण करते हुए जहाँ देश के संविधान ने 22 भाषाओं को स्वीकार किया है, वो सब देश की भाषाएं हैं, चाहे वो तमिल है, कन्नड़ है, तेलगू है, उड़िया है, बंगाली है, मराठी है, गुजराती है, पंजाबी है, उर्दू है, डोगरी है।इनको सबको स्वीकार करना चाहिए और अकारण कोई विवाद इस विषय पर नहीं खड़ा करना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: सर्वाधिक बोली जाने वाली हिंदी देश को एकता की डोर में बांध सकती है: अमित शाह

उन्होंने कहा,  हमें उन भावनात्मक एवं संवेदनशील मुद्दों पर विवाद नहीं छेड़ना चाहिए जिनका समाधान हमारे संविधान निर्माताओं और प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने आजादी के बाद परिपक्वता के साथ कर दिया था। दरअसल हिंदी दिवस पर अमित शाह ने कहा कि भारत विभिन्न भाषाओं का देश है और हर भाषा का अपना महत्व है लेकिन एक आम भाषा का होना आवश्यक है जो देश की पहचान बने। आज, अगर कोई भाषा देश को एकजुट रख सकती है, तो वो व्यापक रूप से बोली जाने वाली हिंदी भाषा है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़