उम्मीद है जम्मू कश्मीर में लागू सभी कानूनों को पलट देगा न्यायालय: महबूबा मुफ्ती

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 26, 2022   16:11
उम्मीद है जम्मू कश्मीर में लागू सभी कानूनों को पलट देगा न्यायालय: महबूबा मुफ्ती
ANI

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने मंगलवार को उम्मीद जताई कि उच्चतम न्यायालय न केवल संविधान के अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के केंद्र के फैसले पर रोक लगाएगा बल्कि पूर्ववर्ती जम्मू कश्मीर राज्य के विशेष दर्जे को समाप्त किये जाने के बाद वहां लागू किये गये सभी कानूनों को भी पलट देगा।

श्रीनगर। पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने मंगलवार को उम्मीद जताई कि उच्चतम न्यायालय न केवल संविधान के अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के केंद्र के फैसले पर रोक लगाएगा बल्कि पूर्ववर्ती जम्मू कश्मीर राज्य के विशेष दर्जे को समाप्त किये जाने के बाद वहां लागू किये गये सभी कानूनों को भी पलट देगा। जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘एक राज्य के कानूनी और संवैधानिक विशेष दर्जे को छीनकर उसे दो हिस्सों में बांट दिया गया और अधिकारविहीन बना दिया गया। फिर भी उच्चतम न्यायालय को मामले को सूचीबद्ध करने में तीन साल लग गये।’’

इसे भी पढ़ें: हनुमान चालीसा विवाद : संजय राउत का दावा, महाराष्ट्र में सरकार बनाने में असमर्थता से बेचैन भाजपा

उन्होंने कहा, ‘‘उम्मीद है कि उच्चतम न्यायालय न केवल अनुच्छेद 370 को समाप्त किये जाने पर स्थगन आदेश देगा बल्कि यहां लागू किये गये सभी अवैध कानूनों को वापस लेगा।’’

इसे भी पढ़ें: Gardens Galleria Murder | नोएडा में मॉल के बाउंसरों ने पीट-पीटकर की युवक की हत्या, 8 गिरफ्तार

उच्चतम न्यायालय ने जम्मू कश्मीर के विशेष राज्य के दर्जे को समाप्त किये जाने और उसे दो केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित करने के फैसले के खिलाफ दायर अनेक याचिकाओं को ग्रीष्मकालीन अवकाश के बाद सूचीबद्ध करने पर सहमति जताई। उसी पृष्ठभूमि में पीडीपी अध्यक्ष महबूबा की प्रतिक्रिया आई है। केंद्र सरकार ने 5 अगस्त, 2019 को अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को समाप्त कर दिया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...