दिल्ली में अस्पताल में भर्ती संख्या कम, आगे प्रतिबंध लगाने की जरूरत की समीक्षा होगी: जैन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 1, 2022   18:23
दिल्ली में अस्पताल में भर्ती संख्या कम, आगे प्रतिबंध लगाने की जरूरत की समीक्षा होगी: जैन

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने बुधवार को यह निर्णय लिया था कि दिल्ली में ‘येलो अलर्ट’ के तहत लगे प्रतिबंध अभी लागू रहेंगे और अधिकारी नए प्रतिबंध लगाने के संबंध में स्थिति पर नजर बनाए रखेंगे।

नयी दिल्ली। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शनिवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 के मद्देनजर आगे प्रतिबंध लगाने की जरूरत की समीक्षा की जाएगी क्योंकि कोविड-19 के मामलों में वृद्धि के बाद भी अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या कम है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से शुक्रवार को जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में संक्रमण के 1,796 मामले सामने आए और संक्रमण दर 2.44 फीसदी दर्ज की गई तथा संक्रमण से एक भी मरीज की मौत नहीं हुई। 

इसे भी पढ़ें: Chai Par Sameeksha: टल सकते हैं तो टालें विधानसभा चुनाव क्योंकि जान है तो जहान है

जैन ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ वायरस तेजी से फैल रहा है लेकिन अच्छी बात यह है गंभीर मामले नहीं हैं। संक्रमण का उपचार चाहे वह ओमीक्रोन स्वरूप का हो या डेल्टा का, इलाज और रोकथाम पहले वाले ही हैं। लोगों को बहुत जरूरत पड़ने पर ही बाहर निकलना चाहिए और मास्क पहनना चाहिए।’’ दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने बुधवार को यह निर्णय लिया था कि दिल्ली में ‘येलो अलर्ट’ के तहत लगे प्रतिबंध अभी लागू रहेंगे और अधिकारी नए प्रतिबंध लगाने के संबंध में स्थिति पर नजर बनाए रखेंगे। 

इसे भी पढ़ें: विदेश यात्रा कर छिंदवाड़ा पहुचीं युवती में ओमिक्रोन के लक्षण मिले, जिला अस्पताल में करवाया भर्ती

जैन ने कहा, ‘‘ हमने प्रतिबंध लगाए हैं। अन्य राज्यों में सिर्फ रात्रिकालीन कर्फ्यू लागू है लेकिन दिल्ली में हमने विद्यालय और मल्टीप्लेक्स समेत अन्य बंद कर दिए हैं। दिल्ली में दूसरी लहर के दौरान अप्रैल और मई में बड़ी संख्या में लोग अस्पताल में भर्ती हो रहे थे लेकिन अब भर्ती संख्या कम है। आगे के प्रतिबंधों की समीक्षा होगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।