डोभाल की मेजबानी, 40 देशों की जासूसी एजेंसी के प्रमुख की खुफिया बैठक, एजेंडे में चीन!

डोभाल की मेजबानी, 40 देशों की जासूसी एजेंसी के प्रमुख की खुफिया बैठक, एजेंडे में चीन!
ANI

2 दिनों के इस बैठक में 25 देशों की खुफिया एजेंसी के सर्वे सर्वा मौजूद है। जबकि बाकी 15 देशों की खुफिया एजेंसी के अन्य प्रमुख अधिकारी भी साड़ी हो रहे हैं। जासूसी एजेंसियों के प्रतिनिधि अपने भारतीय समकक्ष राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से बातचीत करेंगे।

दिल्ली में 24 अप्रैल से 2 दिनों की खुफिया सभा शुरू हुई है। 25 अप्रैल तक चलने वाली इस बैठक में दुनिया भर के ताकतवर मुल्कों की खुफिया एजेंसी के चीफ दिल्ली में मौजूद हैं। इस बैठक में वैश्विक और खासकर चीन की चुनौतियों पर चर्चा हो रही है। आतंकियों की किलिंग मशीन और शत्रुओं के लिए सबसे बड़े काल के रूप में विख्यात मोसाद के बॉस दिल्ली में है। दिल्ली में हो रही इस बैठक में सिर्फ इजरायली खुफिया एजेंसी के चीफ मौजूद नहीं है बल्कि फ्रांस की खुफिया एजेंसी के बॉस, जर्मनी, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, जापान से लेकर संयुक्त अरब अमीरात तक के 40 देशों की जासूसी एजेंसी के प्रमुख खुफिया सभा में मंथन कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: भारत ने चीन के नागरिकों का पर्यटक वीजा किया निलंबित, भारतीय छात्रों को लौटने की अनुमति नहीं दे रहा था ड्रैगन

दिल्ली में खुफिया सभा

2 दिनों के इस बैठक में 25 देशों की खुफिया एजेंसी के सर्वे सर्वा मौजूद है। जबकि बाकी 15 देशों की खुफिया एजेंसी के अन्य प्रमुख अधिकारी भी साड़ी हो रहे हैं। जासूसी एजेंसियों के प्रतिनिधि अपने भारतीय समकक्ष राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से बातचीत करेंगे। जाहिर है इस बैठक का मतलब अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा साझेदारी में भारत के महत्व का संकेत है।

इसे भी पढ़ें: हाई अलर्ट पर चीन की राजधानी बीजिंग, शंघाई में कोविड से और 39 लोगों की मौत

सभा का एजेंडा

वैश्विक परिवार के लिए दिल्ली में चल रही इस बैठक की अगुवाई अजीत डोभाल कर रहे हैं। इस बैठक का फोकस चीन बताया जा रहा है। भारतीय खुफिया एजेंसियों के सूत्रों के मुताबिक खुफिया सभा की बैठक में साझा झंडे पर चीन शामिल है जिसने दुनिया के कई सुरक्षा समस्याएं पैदा की है। चीन ने दुनिया के सामाजिक आर्थिक क्षेत्र ता के लिए खतरा पैदा किया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।